पहल / बच्चों के चरित्र निर्माण के लिए शुरू मस्ती की पाठशाला का समापन

X

  • इस शिविर में पूरे भारत से करीब 35 हजार बच्चों ने भाग लिया

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 06:45 AM IST

बारां. लाॅकडाउन में बच्चे घरों में हैं तो उनके चरित्र निर्माण के लिए अखिल भारतीय माहेश्वरी महिला मंडल संगठन ने बाल एवं किशांेरी विकास समिति की ओर से आयोजित ई-संस्कार वाटिका मस्ती की पाठशाला छह मई से शुरू की गई थी जो बुधवार को संपन्न हुई। 
पूर्वी राजस्थान अध्यक्ष कुंती मूंदड़ा ने बताया कि ई-संस्कार वाटिका में करीब 460 बच्चों ने भाग लिया। कोटा, बूंदी, झालावाड़ एवं बारां के बच्चों ने बहुत से भाग लिया। बाल एवं किशोरी विकास समिति की संयोजिका अंकिता राठी व जिला बाल एवं किशोरी विकास समिति की जिलाध्यक्ष बृजबाला कासट, जिला संयोजिका ममता व शिखा भंडारी ने बताया कि बारां, छबड़ा, छीपाबड़ौद के बच्चों ने भाग लिया। इसमें योगा, प्राणाायम, संत उपदेश, शिव तांडव स्त्रोत श्लोक, परिवार संवाद, आर्ट एंट क्राॅफ्ट तैयार करना, महापुरुषों की कहानिया आदि को शामिल किया गया।

प्रतियोगिता में प्रथम एवं द्वितीय स्थान पर रहने वाले बच्चों को ज्ञानवर्द्धक पुस्तकें, पुरस्कार के रूप में दी जाएगी। सह संयोजिका मधु मोदानी ने बताया कि ई-संस्कार वाटिका मस्ती की पाठशाला में 40 बच्चों ने प्रथम स्थान हासिल किया एवं 45 बच्चों ने द्वितीय स्थान हासिल किया। राष्ट्रीय प्रभारी निर्मला मारू ने बताया कि यह शिविर बच्चों में संस्कार का बीजारोपण करेगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष आशा माहेश्वरी ने बताया कि इस शिविर की विषेषता यह रही कि इसमें पूरे भारत से करीब 35 हजार बच्चों ने भाग लिया। साथ ही करीब 300 एनआरआई बच्चों ने भी भाग लिया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना