आक्रोश / विद्युत इंटक ने केंद्र सरकार की नीतियों के विरोध में किया प्रदर्शन

Electricity INTUC demonstrated against the policies of the Central Government
X
Electricity INTUC demonstrated against the policies of the Central Government

  • काली पट‌्टी बांध किया काम, पीएम के नाम कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 06:51 AM IST

बारां. केंद्र सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों के विरोध में इंटक संगठन के राष्ट्रीय व प्रदेश आह्वान पर विद्युत वितरण कर्मचारी यूनियन इंटक जिलाध्यक्ष रईस अहमद के नेतृत्व में जिला पदाधिकारी एसई कार्यालय पर एकत्रित हुए। जहां पर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की पालना करते हुए हाथ पर काली पट्टी बांधकर हाथों में तख्तियां लेकर विरोध प्रदर्शन किया। 
जिला महामंत्री ओम वर्मा ने बताया कि जहां एक तरफ देशवासी मिलकर कोरोना वायरस से लड़ रहे हैं। ऐसे माहौल में केंद्र सरकार की ओर से श्रम कानूनों में संशोधन करते हुए मजदूरों का कार्य समय 8 घंटे से बढ़ाकर 12 घंटे करते हुए एवं अन्य कई श्रम कानूनो में संशोधन करने का प्रस्ताव पास किए हैं। बिजली निगम का राष्ट्रीय स्तर पर निजीकरण करने की योजना कर्मचारी व जनता विरोधी मानसिकता को दर्शाता है। जिसे बिजली निगम में कार्यरत इंटक संगठन किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेगा। यदि सरकार की ओर से बिजली निजीकरण के फैसले को वापस नहीं लिया तो कर्मचारियों की ओर से आंदोलन किया जाएगा। जिला कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि कर्मचारियों के आगामी महंगाई भत्ते पर रोक लगाना, कर्मचारी विरोधी मानसिकता को दर्शाता है।

प्रदर्शन के बाद कलेक्टर को प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन देकर समस्याओं के समाधान की मांग की गई है। इस दौरान संभागीय पदाधिकारी विकास गुप्ता,  जिला मीडिया प्रभारी बृजराज मालव, जिलाध्यक्ष रईस अहमद, जिला पदाधिकारी वीरेंद्र मीणा, राजेंद्र मेघवाल, सुरेश मालव सहित अन्य पदाधिकारी सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए शामिल हुए।
कवाई. चिकित्सालय में राजस्थान नर्सिंग एसोसिएशन के आह्वान पर गांधीवादी तरीके से काली पट्टी बांधकर विरोध जताया। नर्सिंग स्टाफ मनोज ऐरवाल, सुनील नामदेव, देशराज मीणा, राजेंद्र सुमन, पवन सुमन, शीला नायक ने बताया कि राजस्थान सरकार द्वारा नर्स ग्रेड 2 को नर्सिंग ऑफिसर, नर्स ग्रेड 1 को सीनियर नर्सिंग ऑफिसर के पदनाम परिवर्तन का सरकार द्वारा आश्वासन दिया गया था, पर अभी तक पदनाम परिवर्तन नहीं किया गया, जिससे सभी नर्सिंग कर्मियों में रोष है। जिसको लेकर शुक्रवार को गांधीवादी तरीके से काली पट्टी बांधकर अपनी ड्यूटी की गई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना