पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना इफेक्ट नवरात्र:देवी दर्शन का बदला स्वरूप... मंदिरों में दो गज की दूरी, मास्क और हाथ धोने के बाद ही मिल रहा प्रवेश, प्रसाद-चढ़ावे पर भी पाबंदी

बारांएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना महामारी के चलते सामूहिक कार्यक्रम, मेलों-भंडारों का आयोजन नहीं, मंदिरों में गाइडलाइन की पालना के साथ दर्शन

जिलेभर में नवरात्र महोत्सव श्रद्धा के साथ मनाया जा रहा है। घरों, मंदिरों पर अनुष्ठान, रामायण पाठ, नवदुर्गा पूजा में जुटे हैं। मंदिरों पर साज सजावट की जा रही है। देवी प्रतिमाओं का विशेष श्रंगार और पूजा-पाठ किया जा रहा है। इस साल कोरोना संक्रमण के चलते पांडाल नहीं सजाए गए और बड़े आयोजन भी नहीं हो रहे हैं।जिले के प्रमुख मंदिरों पर दूर दराज से श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं, लेकिन हर साल की अपेक्षा भीड़ कम दिख रही है। इस दौरान मंदिरों पर दर्शन के लिए पहुंच रहे श्रद्धालुओं से मास्क लगाकर ही प्रवेश, सोशल डिस्टेंसिंग और हाथ धाेने बाद ही प्रवेश आदि गाइडलाइन की पालना को लेकर विशेष ध्यान रखा जा रहा है।सोरसन ब्रह्माणी माता मंदिर: इस साल नहीं हो रहे अनुष्ठान व भंडारों का आयोजन, कोरोना गाइडलाइन का हो रहा पालनअंता| कोरोना संक्रमण के चलते कस्बे के समीप स्थित सोरसन ब्रह्माणी माता मंदिर पर व्यवस्थाओं में बदलाव आया है। इस साल कोरोना के चलते नवरात्र में माता के दर्शन के लिए पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की संख्या कम रह गई है। ऐसे में हर साल की अपेक्षा रौनक नहीं लग रही है। गाइडलाइन की पालना को लेकर भी विशेष इंतजाम रखे गए है। मंदिर में सिर्फ सीमित समय तक दर्शन के लिए ही प्रवेश दिया जा रहा है। सोरसन ब्रह्माणी माता मंदिर पर ब्रह्माणी माता की पीठ पूजा की जाती है। यह काफी प्राचीन मंदिर है, यहां नवरात्र के मौके पर विशेष पूजा प्रतिष्ठा करने के साथ ही क्षेत्र सहित दूरदराज से लोगों का हुजूम दर्शन करने उमड़ पड़ता है। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के चलते पूरा माहौल बदला बदला सा दिखाई दे रहा है। इस बार विशेष पूजा अर्चना और अनुष्ठान नहीं हो रहे है। मंदिर पर श्रद्धालुओं का आना कम दिख रहा है।

यह बदली व्यवस्था...मंदिरों में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए बनाए गोले, श्रद्धालुओं को करना पड़ रहा बारी का इंतजार

शाहाबाद| कस्बे के समीप पहाड़ों के बीच स्थित नगरकोट माता मंदिर पर इन दिनों प्रदेश सहित सीमावर्ती राज्य से भी श्रद्धालु पूजा-अर्चना करने पहुंच रहे हैं। मंदिर के पुजारी पंडित भीमाशंकर व्यास ने बताया कि मंदिर में सरकारी गाइडलाइन की पालना की जा रही है। मास्क लगाना पूरी तरह से अनिवार्य कर रखा है। हाथ पैर धोने के बाद ही श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश दिया जा रहा है। सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करवाई जा रही है। उन्होंने बताया कि इस बार कोरोना संकट के चलते दूरदराज से आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या भी काफी कम है। नवरात्र के दौरान माता का विशेष शृंगार एवं पूजा-अर्चना विधिवत रूप से की जा रही है।

रामगढ़ माताजी मंदिर : विशेष इंतजाम के साथ हो रही पूजाकिशनगंज| तहसील क्षेत्र के रामगढ़ कस्बे में स्थित प्रमुख धार्मिक एवं पर्यटक स्थल गिरनार पर्वत पर साक्षात गुफा में विराजमान मां कृष्णाई व मां अन्नपूर्णाई की शारदीय नवरात्र के अवसर पर कोरोना गाइडलाइन की पालना के साथ पूजा-अर्चना की जा रही है। रामगढ़ गिरनार पर्वत स्थित माताजी के मंदिर के पुजारी कालूलाल गुर्जर ने बताया कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी नवरात्र में सहित आसपास व दूरदराज क्षेत्र से आ रहे श्रद्धालुओं की ओर से विशेष पूजा की जा रही है। प्रतिदिन अलग-अलग रूप में माता रानी का श्रंगार किया जा रहा है। प्रतिदिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचकर विशेष पूजा-अर्चना त्याग साधना के साथ पुण्य लाभ कमा रहे हैं। यहां पर आने वाले भक्तों को मंदिर में प्रवेश से पहले हाथों को धुला कर मंदिर परिसर में दो-दो गज की दूरी पर बना रखे गोलों में खड़े करवा कर बारी-बारी से दर्शन करवाए जा रहे हैं। बहुत भक्तों की ओर से यहां पर नवरात्रि पर्व के दौरान कठोर त्याग तपस्या भी की जा रही है। रामगढ़ कस्बे में ही चौकी के हनुमानजी मंदिर गणेश मंदिर पर भी श्रद्धालुओं की ओर से रामायण पाठ का आयोजन किया जा रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें