पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भ्रूण लिंग परीक्षण:प्रोत्साहन राशि बढ़ाई, भ्रूण लिंग परीक्षण की सूचना देने पर अब ढाई की जगह मिलेंगे 3 लाख रुपए

बारां22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत मुखबिर योजना में बढ़ाई गई है राशि

प्रदेश में पीसीपीएनडीटी अधिनियम के तहत मुखबिर योजना को अधिक प्रभावी बनाते हुए प्रोत्साहन राशि को ढाई लाख से बढ़ाकर अब तीन लाख रुपए कर दिया है। प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोड़ा ने बताया कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा के निर्देश पर यह योजना लागू की है। योजना के संबंध में जारी निर्देश वित्तीय वर्ष 2021-22 से प्रभावी होंगे। प्रदेश में भ्रूण लिंग परीक्षण की रोकथाम के लिए पीसीपीएनडीटी अधिनियम का गंभीरता से पालन करवाने पर विशेष बल दिया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि पूर्व में मुखबिर योजना के तहत भ्रूण लिंग परीक्षण संबंधी प्राप्त सूचना पर 3 किश्तों में ढाई लाख रुपए तक की राशि प्रोत्साहन स्वरूप दी जाती थी, लेकिन अब इसे और व्यवहारिक और आकर्षक बनाते हुए सफल डिकाय ऑपरेशन पर मुखबिर, डिकाय गर्भवती महिला एवं सहयोगी को दो किश्तों में कुल तीन लाख रुपए की प्रोत्साहन राशि का भुगतान किया जाएगा। योजना में निर्धारित ढाई लाख की राशि की पहली किश्त सफल डिकाय होने पर, दूसरी न्यायालय में परिवाद दर्ज होने एवं तीसरी किश्त फैसला आने पर दी जाती थी। अब मुखबिर, डिकाय गर्भवती महिला एवं सहयोगी को पहली किश्त सफल डिकाय होने एवं दूसरी किश्त न्यायालय में अभियोजन पक्ष के समर्थन में बयान के बाद दी जाएगी।गर्भवती को अब दो किश्तों में दिए जाएंगे डेढ़ लाख रुपएडिकॉय ऑपरेशन में गर्भवती महिला की अहम भूमिका और परेशानी को ध्यान में रखते हुए उसकी राशि में बढ़ोतरी की गई है।

पहले गर्भवती महिला को तीन किश्तों में एक लाख रुपए दिए जाते थे। अब उसे दो किश्तों में कुल डेढ़ लाख रुपए की राशि दी जाएगी। पूर्व में मुखबिर को तीन किश्तों में 33 हजार 250 प्रति किश्त, सहयोगी को 16 हजार 625 रुपए प्रति किश्त मिलते थे, लेकिन अब मुखबिर को दो किश्तों में 50-50 हजार रुपए और सहयोगी को 25-25 हजार रुपए मिलेंगे। अध्यक्ष राज्य समुचित प्राधिकारी एवं मिशन निदेशक एनएचएम सुधीर शर्मा ने आमजन से भ्रूण लिंग परीक्षण की की शिकायत टोल फ्री नंबर 104/108 और वाट्सएप नंबर 9799997795 पर देने की अपील की है।

खबरें और भी हैं...