पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसानों को राहत:बारिश शुरू होने के बाद खरीफ की बुवाई ने पकड़ा जोर, एक लाख हैक्टेयर से अधिक क्षेत्र में बुवाई

बारां16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बारिश में देरी के बाद भी जिले में 30 प्रतिशत क्षेत्र में बुवाई, इस बार 3 लाख 50 हैक्टेयर से ज्यादा लक्ष्य

जिले में मानसून की सक्रियता ने किसानों के चेहरे खिला दिए हैं। अब जिले में फिर से खरीफ की बुवाई जोर पकड़ने लगी है। जून के अंत और जुलाई की शुरुआत में बारिश नहीं होने से किसानों को चिंता सताने लगी थी व बुआई रुक गई थी। अब पिछले दिनों से शुरू हुई बरसात ने पूर्व में बोई फसलों में भी जान डाल दी है। इन फसलों में किसान अब निराई-गुडाई कर रहे हैं। देरी से बारिश के बाद भी अब तक लक्ष्य के अनुरूप करीब 30 प्रतिशत क्षेत्र में बुवाई की जा चुकी है। कृषि विभाग ने इस बार 3 लाख 50 हजार हैक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में खरीफ की बुवाई का लक्ष्य तय किया है।

अब तक जिले में एक लाख हैक्टेयर क्षेत्र में बुआई हो चुकी है।कृषि विभाग के उपनिदेशक अतिश कुमार शर्मा ने बताया कि जिले में इस बार मानसूनी बारिश का दौर देरी से शुरू हुआ है। जिससे फसलों की बुवाई भी प्रभावित हुई है। अब बारिश का दौर वापस शुरू होने से खरीफ फसलों की बुवाई ने भी जोर पकड़ लिया है। इस बार विभाग की ओर से 3 लाख 51 हजार 20 हैक्टेयर क्षेत्र में खरीफ की बुवाई का लक्ष्य लिया गया है। इसमें से अब तक 1 लाख 3 हजार 712 हैक्टेयर क्षेत्र में बुवाई हो चुकी है। आगामी समय में जिले में बुवाई का रकबा और बढ़ेगा। इस बार मक्का, उड़द, सोयाबीन, धान के रकबे में बढ़ोतरी हुई है। अगर इस बार फसलों के लिए मौसम अनुकूल रहता है, तो जिले में खरीफ की फसलों का बंपर उत्पादन होने की संभावना है।

जिले में सबसे ज्यादा सोयाबीन की 2 लाख 40 हजार हैक्टेयर में बुवाई जिले में बारिश का दौर शुरू होने के बाद अब तक सोयाबीन की सबसे ज्यादा बुवाई हुई है। विभाग ने इस बार जिले में 2 लाख 40 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में सोयाबीन की बुवाई का लक्ष्य रखा है। इसके मुकाबले अब तक जिले में 87 हजार 559 हैक्टेयर क्षेत्र में सोयाबीन की बुवाई हो चुकी है। वहीं जिले में मक्का की बुवाई भी जोर भी पकड़ रही है। इस बार कृषि विभाग की ओर से जिले में 15 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में मक्का की बुवाई का लक्ष्य रखा है। इसके मुकाबले अब तक 9 हजार 394 हैक्टेयर क्षेत्र में मक्का की बुवाई हो चुकी है।

अब तक औसत से 50 फीसदी कम हुई बारिश जिले में मानसून की बारिश का दौर शुरू होने के बाद भी जिले में पर्याप्त रूप से बारिश नहीं हो सकी है। जल संसाधन विभाग के अनुसार अब तक औसत से 50 प्रतिशत बारिश कम हुई है। जिले में वर्तमान में 178 एमएम बारिश होनी चाहिए, लेकिन इसके मुकाबले अब तक केवल 88 एमएम बारिश ही हुई है।

खबरें और भी हैं...