चारागाह जमीन से अतिक्रमण हटवाने की मांग:ग्रामीण बोले- दबंग परिवार ने कर रखा है कब्जा, पशुओं के लिए हो गया चारे का संकट

बारां4 महीने पहले
ग्रामीणों ने बताया कि चारागाह की जमीन पर कब्जा होने से पशुओं के चारे का संकट हो गया है। - Dainik Bhaskar
ग्रामीणों ने बताया कि चारागाह की जमीन पर कब्जा होने से पशुओं के चारे का संकट हो गया है।

बारां जिले में कई जगहों पर चारागाह की जमीनों पर अतिक्रमण हो रहे हैं। जिले के छीपाबड़ौद तहसील के झरनियाजागीर गांव में दबंगों ने चारागाह जमीन पर कब्जा कर लिया है। चारागाह जमीन पर कब्जा होने से गांव के पशुओं के चारे का संकट हो गया है। चारागाह जमीन से अतिक्रमण हटाने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने मंगलवार को कलेक्टर नरेंद्र गुप्ता को ज्ञापन सौंपा है। ग्रामीणों ने कहा कि अगर जल्द ही चारागाह जमीन को अतिक्रमण मुक्त नहीं करवाया गया तो ग्रामीण आंदोलन पर उतरेंगे।

ग्रामीणों ने बताया कि गांव के खसरा नंबर 206 का रकबा 38 बीघा से ज्यादा है। इस जमीन पर लंबे समय से गांव के दबंग परिवार ने अतिक्रमण कर रखा है। मौजूदा समय में भी इस परिवार ने फसल की बुआई कर रखी है। अतिक्रमण करने वालों में एक रिटायर्ड पुलिसकर्मी भी शामिल है। चारागाह जमीन पर कब्जा होने के कारण गांव के पशुओं के चारे का संकट हो गया है। इससे ग्रामीणों को भी परेशान होना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि उन्होंने पहले भी कलेक्टर को शिकायत की थी, जिसके बाद कलेक्टर ने अतिक्रमण हटाने के आदेश दिए थे। तहसीलदार के पैमाइश के आदेश जारी करने के बाद पैमाइश शुरू हुई, लेकिन अचानक से पैमाइश को रोक दिया गया।

खबरें और भी हैं...