दुष्कर्मी को सजा:दुष्कर्म के अभियुक्त को 20 साल की सजा

बारांएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बारां जिले के सदर थाना क्षेत्र में एक नाबालिग से साथ हुए दुष्कर्म के 3 साल पुराने मामले में पोक्सो कोर्ट-2 के विशिष्ठ न्यायाधीश संजय कुमार ने अभियुक्त को 20 साल कठोर कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही उसे 10 हजार रुपए के आर्थिक दंड से भी दंडित किया है। इसके अलावा दो अन्य धाराओं में भी तीन-तीन साल कठोर कारावास की सजा सुनाई। तीनों सजाएं एक साथ चलेंगी। अभियोजन के अनुसार परिवादी ने 4 जुलाई 2018 को सदर थाना बारां में इस आशय से रिपोर्ट पेश की कि वह अपनी पत्नी के साथ उसकी बड़ी पुत्री के यहां गया हुआ था। घर पर उसके तीनों बच्चे ही थे।

6 जुलाई को वापस लौटने पर घर पर उसकी नाबालिग बेटी नहीं मिली। इस पर बच्चों से जानकारी की तो मालूम हुआ कि बतावदा, बारां निवासी बंटी उर्फ आशु उर्फ सतेंद्र (20) पुत्र बनवारी मेघवाल एक अन्य युवक के साथ आया और उसकी बेटी को अपने साथ ले गए। उसने अपने रिश्तेदारों के यहां भी तलाश की, लेकिन बेटी का कहीं सुराग नहीं लगा। इस पर बारां सदर थाना पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया। पुलिस ने पीड़िता को दस्तयाब करने के बाद बताया कि उसके माता-पिता बड़ी बहन के यहां गए थे, तब बंटी पीड़िता काे जबरन बाइक पर बैठाकर ले जाने लगा, उसने मना किया तो जान से मारने की धमकी दी। इस पर वह उसके साथ चली गई। आरोपी बाद में उसे बस में बिठाकर बारां ले आया। यहां रात को दोनों एक गार्डन में रूके। फिर बारां से झालावाड़ और झालावाड़ से कोटा ले गया। जहां पर दोनों एक मेस में खाना बनाने का काम 8 दिन तक किया। इसके बाद कोटा से बारां होते हुए किशनगंज के पास राणी बड़ौद में बंटी के मामा के घर गए, जहां पर 3 दिन रूके। यहां से राधापुरा गए वहां 5 दिन रूके। फिर बूंदी में रामगंज बालाजी गए।

जहां पर भी गए प्रतिदिन बंटी उर्फ सतेंद्र ने उसके साथ दुष्कर्म किया। वहां बंटी दिन मे तेल फैक्ट्री में काम करता और उसे घर में बंद करके जाता। एक दिन बंटी का मोबाइल पीड़िता के हाथ लग गया। तब उसने मोबाइल से पिता को मैसेज किया। इसके बाद पिता पुलिस के साथ वहां पहुंचा। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर कोर्ट में चालान पेश किया। आरोपी के खिलाफ 26 गवाह और 27 दस्तावेज साक्ष्य के रूप में पेश किए। आरोपी के खिलाफ जुर्म प्रमाणित पाए जाने पर उसे 20 साल कठोर कारावास की सजा सुनाई। सरकार की ओर से पैरवी विशिष्ठ लोक अभियोजक लालचंद मीणा ने की।

खबरें और भी हैं...