पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान आंदाेलन:कोटा-बीना रूट रेलवे ट्रैक पर 4 घंटे बैठे किसान केंद्र सरकार के खिलाफ की जमकर नारेबाजी

बारां10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रैली के रूप में ट्रैक पर धरना देने पहुंचे किसान, पहले से अलर्ट के चलते इस ट्रैक पर नहीं आई काेई ट्रेन
  • कृषि कानून को बताया किसान विरोधी

शहर में कोटा-बीना रेलवे ट्रैक पर गुरुवार को विभिन्न किसान संगठनों से जुड़े पदाधिकारी व किसान धरने पर बैठ गए। करीब चार घंटे तक रेलवे ट्रैक पर बैठकर केंद्र की सरकार के खिलाफ नाराजगी जाहिर करते हुए नारेबाजी की। इस दौरान रेलवे ट्रैक की सुरक्षा को लेकर आरपीएफ, पुलिस सहित सुरक्षाकर्मी तैनात रहे। हालांकि पहले से अलर्ट के चलते इस रूट पर ट्रेन और मालगाड़ी नहीं आई।केंद्र सरकार की ओर से लाए गए कृषि कानूनों को लेकर किसानों की ओर से आंदोलन, धरना-प्रदर्शन किया जा रहा है। रेल रोको आंदोलन के तहत किसान कृषि उपजमंडी में एकत्रित हुए, जहां से रैली के साथ कोटा-बीना रेलवे ट्रैक पर धरना देने पहुंचे। रेलवे स्टेशन और झालावाड़ रोड रेलवे फाटक के बीच ट्रैक पर जाकर बैठ गए। दोपहर करीब 12 बजे से शाम 4 बजे तक धरना-प्रदर्शन किया। किसानों के रेल आंदोलन के दौरान शांति व्यवस्था को देखते हुए पुलिस, आरपीएफ, जीआरपी, आरएसी सहित अतिरिक्त पुलिस जाब्ता तैनात रहा। रेलवे की ओर से भी इस दौरान ट्रेनों व मालगाड़ियों की आवाजाही बंद रखी गई। मौके पर बारां डीएसपी मनोज गुप्ता, सीआई मांगेलाल यादव, अनीस अहमद, लच्छीराम, आरपीएफ सीआई आदित्य निगम, टीआई आशासिंह व जाब्ता तैनात रहा।

किसान बोले...आंदोलन को कुचलने का प्रयास कर रही केंद्र सरकार

किसान महापंचायत के प्रदेश संयोजक सत्यनारायणसिंह, किसान सभा के जिलाध्यक्ष दीनबंधु धाकड़, नहरी किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष पवन यादव ने केंद्र सरकार को किसान विरोधी के साथ-साथ आमजन एवं देश विरोधी सरकार बताया। वक्ताओं ने कहा कि केंद्र सरकार चंद उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए संपूर्ण देशवासियों को परेशान कर रही है, जो कृषि अर्थव्यवस्था को कब्जे में करना चाहते हैं। किसान नेता पूर्व सरपंच धर्मराज मेहरा, सरपंच कपिल मारन, पूर्व सरपंच योगेश मीणा बराना ने केंद्र सरकार पर किसान आंदोलन को कुचलने का षड्यंत्र रचने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि किसानों एवं स्वतंत्र पत्रकारों पर केंद्र सरकार के दबाव में संगीन धाराओं में मुकदमे दर्ज कर जेल में डाला जा रहा है। सरकार जब तक किसानों की मांगें नहीं मानेगी आंदोलन जारी रहेगा।

यह रखी मांग...बढ़ती महंगाई से जनता त्रस्त हो चुकी है, निजीकरण बंद होकिसान नेता व पूर्व सरपंच धर्मराज मेहरा ने बताया कि पिछले तीन माह से चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में किसान संगठनाें के संयुक्त आह्वान पर न्यूनतम समर्थन मूल्य पर संपूर्ण फसलों की खरीद गारंटी कानून बनाने, केंद्र सरकार की ओर से पारित तीनों कृषि अध्यादेश वापस लेने, किसानों पर संगीन धाराओं में दर्ज झूठे मुकदमे वापस लेने एवं बढ़ती महंगाई अनियंत्रित पेट्रोल, डीजल व गैस के दाम कम करने, निजीकरण बंद करने आदि मुख्य मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया। धरने में समाजसेवी ओम गोचर, किसान कांग्रेस के जिलाध्यक्ष रमेश मीणा, एसएफआई जिलाध्यक्ष धर्मेश मीणा, किसान महापंचायत के संभाग मंत्री बजरंगलाल मीणा, जिलाध्यक्ष कैप्टन रघुवीर सिंह, उपाध्यक्ष जगदीश सिंह अटवाल, किशनगंज प्रभारी धर्मसिंह मीणा, बारां नगर अध्यक्ष कृष्णमुरारी नागर, किसान सभा के ब्लाॅक अध्यक्ष बालूराम मीणा, उपाध्यक्ष रमेश मीणा, रामगोपाल मीणा, लोकेश काचरी, हेमंत गंदोलिया, धर्मवीर सरदार, जितेंद्र सिंह चाहल, शिवराज मीणा, शाकिर पठान, बृजमोहन मेघवाल आदि मौजूद रहे।औसतन 4 घंटे में निकलती हैं 12 मालगाड़ियांकोटा-बीना रूट पर बारां स्टेशन से दोपहर 12 से शाम 4 बजे तक हर दिन औसतन 10 से 12 मालगाड़ियाें की आवाजाही होती है। किसान आंदोलन के चलते कड़ी चौकसी रखी। प्रभावित रूट पर एहतियात के तौर पर ट्रेनों और मालगाड़ियों का संचालन नहीं किया। इस रूट से औसतन 12 मालगाड़ियां निकलती हैं, जो गुरुवार को दूसरे स्टेशनों पर रोक दी गई।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें