शिक्षकों को दी जाएगी ट्रेनिंग:छात्राें काे विषय रटना नहीं पड़ेगा, शिक्षकों को इसके लिए दी जाएगी ट्रेनिंग

बारां2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सीबीएसई व ब्रिटिश काउंसिल दोनों मिलकर कॉम्पिटेंसी बेस्ड क्वेश्चन पेपर कंटेंट प्रिपरेशन के लिए 18 अक्टूबर से एक कोर्स शुरू करेंगे। इस कोर्स का मुख्य उद्देश्य रोट लर्निंग (रटने की प्रक्रिया) को खत्म करना है। ताकि छात्र विषय को रटें नहीं बल्कि उसे समझें। इस कोर्स में छठी से दसवीं कक्षा तक के साइंस, मैथेमेटिक्स व इंग्लिश पढ़ाने वाले शिक्षक भाग ले सकते हैं।

कोर्स में अध्यापकों को ट्रेनिंग दी जाएगी कि वे कैसे छात्रों को किसी विषय को समझने के लिए तैयार करें। इस ट्रेनिंग में टीचर्स को यह बताया जाएगा कि वे परीक्षाओं में ऐसे सवाल तैयार करें, जिनके जवाब लिखते समय छात्रों को रटने की जरूरत न पड़े। वे उत्तर को लिखने के लिए संबंधित टॉपिक को समझें। कोर्स वर्चुअल मोड में आयोजित होगा। कोर्स में हिस्सा लेने के लिए सीबीएसई की वेबसाइट पर 15 अक्टूबर तक आ‌वेदन करने होंगे।

खबरें और भी हैं...