पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अव्यवस्था:बोहत पीएचसी पर डॉक्टर नहीं, 12 गांव के 15 हजार लोग स्वास्थ्य सुविधाओं से वंचित

बोहत20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बोहत. चिकित्सक के अभाव में बंद पड़ा आउटडोर। - Dainik Bhaskar
बोहत. चिकित्सक के अभाव में बंद पड़ा आउटडोर।
  • एक महीने पहले डॉक्टर का तबादला होने से रिक्त है पद, ग्रामीणोंे को उठानी पड़ रही परेशानी

राज्य सरकार की ओर से करोड़ों रुपए खर्च कर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और सुविधाएं विकसित की गई है। सरकार निशुल्क जांच योजना, निशुल्क दवा योजना सहित विभिन्न योजनाएं चला रही है, ताकि लोगों सहजता से उपचार मिल सके।बोहत पीएचसी पर डॉक्टर की नियुक्ति नहीं की गई है। खान एवं गोपालन मंत्री का विधानसभा क्षेत्र होने के बाद भी विभागीय अधिकारी लापरवाही बरत रहे हैं। जिससे क्षेत्र के 12 गांव की करीब 15000 की आबादी को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्र वासियों ने खान एवं गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया से शीघ्र डॉक्टर को नियुक्ति कराने की मांग की है।

क्षेत्रवासियों का कहना है कि एक तरफ तो राज्य सरकार करोड़ों रुपए के अस्पताल खोल कर लोगों को स्वास्थ्य लाभ देने का बड़ा-बड़ा दावा करती हैं, लेकिन उन अस्पतालों में डाॅक्टर ही नहीं लगाए है। डॉक्टर के बिना अस्पताल का लोगों को कैसे लाभ मिलेगा। वर्तमान में बिना डॉक्टर का अस्पताल बना हुआ है। करीब एक माह से यहां पर स्थापित डॉक्टर का स्थानांतरण हो गया।जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने आज तक यहां पर किसी भी चिकित्सक की नियुक्ति नहीं की है। जिससे लोगों को वर्तमान में चल रही है मौसमी बीमारी का भी उचित इलाज भी नहीं मिल पा रहा है। लोगों को मजबूरी में बारां, मांगरोल तक खुद के खर्च पर पहुंचकर उपचार कराना पड़ रहा है। इसमें लोगों का समय और धन खराब हो रहे हैं। स्थानीय चिकित्सालय पर तैनात स्टाफ की भी मजबूरी बनी हुई है कि मरीजों से बीमारी के लक्षण देखकर पर्ची काउंटर पर एक ही दवाई देते हैं। जिससे मरीजों को उचित उपचार नहीं मिल पा रहा है।

यहां कस्बे सहित आस पास से एक दर्जन से भी अधिक गांव के लोग इलाज के प्रतिदिन औसत सौ से डेढ़ सौ लोग इलाज के लिए पहुंचते है। लोगों की परेशानी पर स्वास्थ्य विभाग की और से बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। ग्रामीणों ने खान एवं गोपालन मंत्री व प्रशासन से मांग की है कि लोगों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए अति शीघ्र चिकित्सालय पर चिकित्सक की नियुक्त करे।^बोहत में चिकित्सक के स्थानांतरण के बाद चिकित्सक को लगाया था, लेकिन वह भी बीमार हो गए।शीघ्र ही दूसरा चिकित्सक लगाएंगे ।-डॉ. संपतराज नागर, सीएमएचओ

खबरें और भी हैं...