पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बिजली चोरी:भास्कर सवाल; लोगों की जान जाएगी, तब जागेगा प्रशासन?डिस्कॉम का जवाब; हम क्या करें, हमारे तो हाथ ही बंधे हुए हैं

बूंदी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • तारों का जानलेवा जंजाल... शहर में जगह-जगह फैला है खतरा
  • भास्कर पड़ताल: हर दिन 80 हजार रुपए की हो रही बिजली चोरी

शहर में एक दिन पहले एक ट्रक ने दो बिजली ट्रांसफार्मर और तारों के साथ बिजली बोर्ड तोड़ डाले, नतीजा यह हुआ कि शहर की 12 कॉलोनियों में 15 घंटे तक बिजली गुल रही। बिजली निगम को कई लाख रुपए का नुकसान हुआ। गनीमत यह रही कि यह हादसा रात के 3 बजे हुआ। अगर दिन में हुआ होता तो जान-माल का नुकसान हो सकता था। हादसे की वजह थी झूलती बिजली लाइन...। यह तो एक बानगी है, शहर में ऐसे कई इलाके हैं, जहां सिर पर मौत झूलती रहती है। बिजली के तारों के जंजाल और उन पर कूदते-फांदते बंदर जगह-जगह नजर आ जाएंगे।शहर की करीब 5000 लोगों की आबादीवाली संजय नगर कॉलोनी का नजारा आप देख लें तो दांतों तले उंगली दबा लेंगे। वहां पग-पग पर मौत के तार बिछे हैं। संजय कॉलोनी में करीब 1000 घर हैं, जिनमें करीब 5000 की आबादी है, पूरी कॉलोनी बिजली चोरी कर रही है। बिजली चोरी रोकने के लिए डिस्कॉम खूब जतन करता रहा है, दूसरी ओर संजय कॉलोनी में एक हजार से ज्यादा अवैध कनेक्शनों का जाल बिछा है। बिजली अफसरों के मुताबिक एक घर में एक दिन (12 घंटे) की बिजली खपत 5 यूनिट भी मान लें तो 5 हजार यूनिट रोज बिजली चोरी हो रही है। इससे डिस्कॉम को 12 घंटे में करीब 40 हजार रुपए और 24 घंटे में नुकसान 80 हजार रुपए तक हो रहा है।

शहर की कॉलोनी को शामिल कर दी पंचायत मेंपूर्व पार्षद रोशन वर्मा, धनकंवर, राहुल सहित लोग बताते हैं कि शहर का हिस्सा होकर राजनीति के चलते संजय कॉलोनी को माटूंदा पंचायत में शामिल कर दिया। राशनकार्ड नप के हैं। न पंचायत, न नप ध्यान दे रही। कॉलोनी में न सड़क है, न बिजली, न पानी का बंदोबस्त। पहले कॉलोनी रामगढ़ सेंचुरी में थी, सेंचुरी से मुक्त कर दिया, पर फाॅरेस्ट से नहीं निकाला है। ऐसे में कनेक्शन नहीं दिए जा सकते।

यह कॉलोनी वाइल्ड लाइफ में है अगर विभाग हमें इजाजत दे तो हम कल ही कैंप लगाकर सबको कनेक्शन दे देंगे। जब लोगों ने घर ही बना लिए, नल कनेक्शन हो गए तो फिर बिजली कनेक्शन की भी इजाजत दे दी जानी चाहिए। अगर कॉलोनी अवैध है तो फिर तुड़वा कर उन्हें रिहेबिलिएट कर देना चाहिए। डिस्कॉम को सालाना लाखों रुपए का नुकसान हो रहा है। हमारे स्तर से प्रशासन, वाइल्ड लाइफ और उच्च स्तर पर भी चिट्टियां लिखी जा चुकी हैं, लेकिन अभी तक इस पर कोई फैसला नहीं हुआ है। हमारे हाथ बंधे हुए हैं।-जीएस बैरवा, एसई, जयपुर डिस्कॉम बूंदी

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें