• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Bundi
  • Due To The Century, Approval Was Not Being Given To Make 2.40 Km Part Paved, Now We Will Take Out The Road From The Fields, The Distance Of Bundi Nainwan Will Decrease By 7 Km

भास्कर एक्सक्लूसिव:सेंचुरी की वजह से 2.40 किमी हिस्सा पक्का बनाने की मंजूरी नहीं मिल रही थी, अब खेतों से सड़क निकालेंगे, 7 किमी घटेगी बूंदी-नैनवां की दूरी

बूंदी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बूंदी. नक्शे में देखिए...यह होगा बूंदी-नैनवां का सबसे शॉर्टकट रास्ता। दूरी 7 किमी घट जाएगी। - Dainik Bhaskar
बूंदी. नक्शे में देखिए...यह होगा बूंदी-नैनवां का सबसे शॉर्टकट रास्ता। दूरी 7 किमी घट जाएगी।
  • बूंदी-नैनवां आने-जाने में 14 किमी दूरी घट जाएगी, बाइक से 20 और फोर व्हीलर से 100 रुपए का पेट्रोल बचेगा

बूंदी और नैनवां जल्द करीब आ जाएंगे। दोनों शहरों के बीच की दूरी 7 किलोमीटर कम हो जाएगी। विषधारी अभयारण्य से कालानाला के बीच सड़क का 2.40 किमी हिस्सा अब पक्का बन जाने से बूंदी से डाबेटा, विषधारी, कालानाला, रामगंज, बांसी होते हुए नैनवां की दूरी महज 57 किमी रह जाएगी। जबकि अभी तक सबसे शॉर्टकट भी 64 किमी से कम नहीं है।दरअसल, रामगढ़ टाइगर सेंचुरी में आने के कारण विषधारी से कालानाला के बीच 2.40 किमी सड़क का हिस्सा पक्का बनाने की मंजूरी नहीं मिल रही थी।

यह कच्चा मार्ग बेहद खराब था, लोगों को भारी परेशानी हो रही थी। इसे देखते हुए पीडब्ल्यूडी अधिकारियों ने समस्या का समाधान तलाशा। उन्होंने आसपास के उन किसानों से बात की, जिनके खेत पास ही थे और सेंचुरी की जद से बाहर थे। उन्हें समझाया तो बिना मुआवजा दिए पीडब्ल्यूडी ने किसानों से खेतों से होकर रास्ता ले लिया।दरअसल, यह मार्ग सेंचुरी के बॉर्डर पर है, आसपास खेत हैं। सेंचुरी से हटाकर रास्ता खेतों से निकाल दिया। ऐसे में फोरेस्ट की बाधा हट गई। अब बूंदी से रामेश्वर महादेव मोड़, आकोदा, डाबेटा, विषधारी, कालानाल, रामगंज बांसी, दुगारी होते हुए नैनवां 57 किमी का सबसे शॉर्टकट रूट बनने जा रहा है।

ऊबड़-खाबड़, कच्चा और खराब रास्ता फोरेस्ट से हटाकर खेतों में शिफ्ट कर नई सड़क बन रही

बूंदी-नैनवां के बीच अभी करीब आधा दर्जन सड़क मार्ग हैं, पर उनसे जाने पर 64 से 70 किमी का सफर करना पड़ता है। इनमें बूंदी से एनएच-52 से तालाबगांव, बड़ा नयागांव से पहले एनएच-148डी से होते हुए नैनवां 75 किमी, बूंदी से अलोद, धोवड़ा, मेंडी से एनएच-148डी होते हुए नैनवां 64 किमी, बूंदी से धनावा, दबलाना, रानीपुरा, बांसी से दुगारी होते हुए 64 किमी का रूट है। बूंदी से खटकड़, मोतीपुरा, लुहारपुरा, पीपल्या, जेतपुर, देई होते हुए नैनवां रूट 70 किमी का है।

अब कालानाला व विषधारी के बीच सेंचुरी में आ रहा 2.40 किमी ऊबड़-खाबड़, कच्चा और बेहद खराब रास्ता फोरेस्ट से हटाकर खेतों में शिफ्ट कर नई सड़क बनाई जा रही है। साथ ही रामगंज-कालानाला के बीच मेज नदी पर पुलिया भी मंजूर हो गई है। इससे बूंदी-नैनवां के बीच एकतरफा 7 किमी और दोतरफा 14 किमी का सफर कम हो जाएगा। यानी बाइक से भी अपडाउन करनेवालों को आज के भाव के हिसाब से कम से कम 20 रुपए, वहीं फोर व्हीलर से अपडाउन पर 100 से 125 रुपए की बचत होगी।

नया शॉर्टकट रूट होते ही बांसी 6 सड़क मार्गों का जंक्शन, बाईपास की जरूरत

नया शॉर्टकट रूट शुरू होने के बाद बांसी 6 सड़कों का जंक्शन बन जाएगा। ऐसे में आनेवाले वक्त में यहां बाईपास बनाने की जरूरत होगी, क्योंकि बांसी के संकड़े रास्ते इतना ट्रैफिक नहीं झेल पाएंगे। बूंदी से नैनवां जानेवाले सभी रूट बांसी से ही गुजर रहे हैं, शॉर्टकट रूट भी बांसी से ही गुजरेगा। ये छह रूट बांसी-दुगारी, बांसी-रानीपुरा, बांसी-सादेड़ा, बांसी-मानुपरा, बांसी-देई और बांसी-कालानाला हैं, जंक्शन बन जाने से इतने रूट का ट्रैफिक भार बांसी नहीं झेल पा रहा और आनेवाले दिनों में बाईपास की जरूरत होगी।

खबरें और भी हैं...