पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दर्दनाक हादसा:कंटेनर के खड़े ट्रोले काे टक्कर मारते ही केबिन में रखे गैस सिलेंडर से धमाका, आग लगी, चालक जिंदा जला

बूंदी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • फोरलेन पर 7 घंटे यातायात वन-वे रहा, फर्नीचर से भरे कंटेनर से घंटाें तक निकलती रही आग की लपटें

रोडनेशनल हाईवे-52 पर रामगंजबालाजी बाईपास के पास देररात बाद 2.30 बजे खड़े ट्रोले को कोटा की और जा रहे पार्सल कंटेनर ने पीछे से टक्कर मार दी। धमके के साथ कंटेनर की केबिन में आग लगने से चालक जिंदा जल गया। केबिन में उसके अवशेष मात्र ही बचें। घटना के 20-25 मिनट बाद सदर थाना पुलिस, दमकल व हाइवे पेट्रोलिंग टीम आ गई।दमकल से आग को बुझाने का प्रयास किया, लेकिन आग इतनी भीषण थी कि कंटेनर के साथ-साथ आगे खड़े ट्रोले के टायरों में भी आग लग गई। ट्रोला चालक ने अन्य चालकों की मदद से ट्रोले की ट्रोली व आगे की केबिन को अलग किया। शनिवार सुबह कंटेनर के नंबरों के आधार पर मालिक का पता लगाकर सूचना दी। कंटेनर मालिकों ने चालक की पहचान झुंझुनूं निवासी शंकरलाल माली (46) के रूप में की है। पुलिस ने परिजनों के आने के बाद पोस्टमार्टम करवाकर अवशेष परिजनों के सुपुर्द किए। मृतक के भाई ने ट्रोले के नंबर के आधार पर रिपोर्ट दी है। इस कंटेनर में नया फर्नीचर रखा हुआ था, जिसकी कीमत 7 लाख 50 हजार रुपए बताई। फर्नीचर को पाॅलिश करने के लिए तीन केन में केमिकल भी रखा था। चालक के सिर के कंकाल के पास ही एक छोटा गैस सिलेंडर पड़ा था, जो भी आग के कारण जल गया। आशंका है कि सिलेंडर के कारण ही आग लगी हो, क्योंकि टक्कर मारने के तुरंत बाद ही कंटेनर ने आग पकड़ ली थी।

प्रत्यक्षदर्शी-मैं गाड़ी बचाने के लिए मदद मांगता रहामैं हरिसिंह गुर्जर ट्रोला चालक उनियारा तहसील के झूड़वा गांव का रहने वाला हूं। माल भरने के लिए कोटपूतली से ट्रोले काे लेकर रामगंजमंडी जा रहा था। बीती रात करीब 2.30 बजे ट्रोले को रामगंजबालाजी बाईपास के पास चाय पीने के लिए खड़ा किया था। चाय का डिस्पोजल ग्लास हाथ में लिया ही था कि धमाका हुआ। देखा तो मेरी गाड़ी को पीछे से एक कंटेनर ने टक्कर मार दी। फिर कंटेनर की केबिन में आग लग गई। इसके साथ ही मेरी गाड़ी के पीछे टायरों ने भी आग पकड़ ली। मैंने गाड़ी बचाने के लिए दूसरे ट्रक चालकों से मदद मांगी और ट्रोले की ट्रॉली व केबिन को अलग कर दिया। कुछ देर बाद ही पुलिस व दमकल आ गई थी।

चूरू से कंटेनर काे बेंगलुरु जाना थाकंटेनर मालिक संदीप ढाका व जयदीप ढाका ने बताया कि एक अक्टूबर दोपहर 2 बजे चूरू इंडस्ट्रियल एरिया से नया फर्नीचर भरकर कंटेनर बेंगलुरु के लिए रवाना हुआ था। यह फर्नीचर बेंगलुरु में डॉक्टर काे देना था, जो अब आग के कारण पूरी तरह जलकर नष्ट हो गया है। फोरलेन कुछ समय के लिए जाम रहा। पुलिस ने यातायात को वन-वे कर वाहनों को निकालना शुरू किया। शनिवार सुबह 10 बजे यही स्थिति थी। ^ट्रोले से टकराने के बाद कंटेनर में आग लग गई। इसमें बैठा चालक जिंदा जल गया। बड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। कंटेनर के नंबरों के आधार पर उसके मालिक का पता लगाकर सूचित किया गया। मालिकों ने ही मृतक चालक की पहचान की। इस पर पुलिस ने मृतक के परिजनों को सूचना देकर बूंदी बुलाया और पोस्टमार्टम करवाकर अवशेष सुपुर्द किए। मृतक के भाई ने ट्रोले के नंबरों के आधार पर रिपोर्ट दी है। पुलिस जांच कर रही है।-शौकत खान, सीआई, सदर थाना

खबरें और भी हैं...