• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Bundi
  • For 20 Days, The Waste Of Medical Institutions Across The District Is Not Being Picked Up, The Garbage Collection Center Has Become A Problem For The Common Man, Getting Infected By Eating Cow Progeny By Putting It In The Open

बायो मेडिकल वेस्ट के लगे ढेर:20 दिनों से जिले भर में चिकित्सा संस्थानों का नहीं उठाया जा रहा कचरा, आमजन की मुसीबत बना कचरा संग्रह केंद्र, खुले में डालने से गोवंश खाकर हो रहा संक्रमित

बूंदी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खुल में लगा बायो मेडिकल वेस्ट का ढेर। - Dainik Bhaskar
खुल में लगा बायो मेडिकल वेस्ट का ढेर।

बूंदी जिले के चिकित्सा संस्थानों सहित जिला अस्पताल में बायो मेडिकल वेस्ट की समस्या विकराल रूप ले रही है। जिले भर सहित जिला अस्पताल में संक्रमित कचरे के ढेर लग रहे हैं। इसके निस्तारण की व्यवस्था पटरी से उतर गई है। हालात यह हो चुके हैं कि जिले भर सहित जिला अस्पताल में बायो मेडिकल वेस्ट का पिछले 20 दिनों से कोई निस्तारण नहीं हो पा रहा है। चिकित्सा विभाग इस समस्या के समाधान को लेकर कुछ नहीं कर पा रहा है। अस्पताल प्रशासन भी लाचार नजर आ रहा है। ऐसे में लगातार संक्रमित कचरे की समस्या अस्पताल प्रशासन के सामने जस की तस खड़ी हुई है।

जानकारी के अनुसार जिलेभर के चिकित्सा संस्थाओं का संक्रमित कचरा उठाने का कार्य झालावाड़ की होसविन इंसीनेटर करती है। लेकिन उक्त कम्पनी ने गत 9 सितंबर से जिले भर के चिकित्सा संस्थानों का कचरा उठाना बंद कर दिया। ऐसे में बीते बीस दिनों से संक्रमित कचरे के कारण जिले के हालात खराब होते जा रहे हैं।

आएगी जगह की समस्या

जिले भर में संक्रमित कचरा नहीं उठने से चिकित्सा संस्थानों में कचरे के ढेर लग रहे हैं। धीरे-धीरे जगह कचरे से भरने लगी है। यदि जल्द ही कोई समाधान नहीं हुआ तो संक्रमित कचरे के भंडारण को लेकर समस्या पैदा हो जाएगी। कचरा रखने के लिए जगह भी नहीं बचेगी। चिकित्सा संस्थानों के पास संक्रमित कचरे के लिए जगह भी सीमित होती है। ऐसे में कचरे का निस्तारण नहीं होने पर कचरे के भण्डारण के लिए जगह का टोटा हो जाएगा।

अस्पताल में तो खुले में डाल रहे गंदगी, फैला रहे प्रदूषण

जिला अस्पताल में तो अनदेखी की हद की जा रही है। यहां पर संक्रमित कचरे के लिए बने भंडारण कक्ष के बाहर खुले परिसर में ही अस्पताल के कचरे को अलग अलग रंग की थैलियों में बंद करके फेंक रहे हैं। जिनमें आवारा मवेशी मुंह मार रहे हैं। परिसर में खुले में अस्पताल की संक्रमित गंदगी डाली जा रही है। जिसमे सभी तरह की गंदगी नजर आ रही है। इन थैलियों को मवेशी फाड़कर बिखेर रहे हैं, जिससे कचरा चारों तरफ फैल रहा है। इससे बदबू फैलने के साथ साथ बीमारी भी फैलने की संभावना पैदा हो रही है। यहां पर अस्पताल प्रशासन ने आंखें बंद कर रखी है। अस्पताल के कर्मचारी खुलेआम पीले, काले व अन्य रंग की थैलियों को खुले में फेंक रहे हैं। संक्रमित कचरे के रंग वाली थैलियों को खुले में नहीं फेंक सकते। फिर भी बेखौफ होकर यह कार्य किया जा रहा है।

लिखे हैं पत्र कोई नहीं ले रहा सुध

जिला अस्पताल प्रशासन ने संक्रमित कचरा नहीं उठने की समस्या को लेकर जिला प्रशासन को पत्र भेजकर सूचित कर दिया है। इसके अलावा पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड जयपुर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, नगर परिषद को पत्र भेजकर इस बारे में सूचित कर दिया है। बूंदी की पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड की क्षेत्रीय अधिकारी को भी समस्या से अवगत करवा दिया। अभी तक कहीं से भी कोई समाधान नहीं हुआ। अस्पताल प्रशासन उच्च स्तर पर गुहार लगा चुका है। फिर भी कोई समाधान नहीं हो रहा है।

संक्रमित कचरा उठाने वाली कम्पनी हट गई है। जिला प्रशासन व जिला परिषद को भी लिखा है। अभी हम भंडारण कक्ष में डाल रहे है। इसके साथ ही पिट में कचरा डंप कर रहे हैं। जो लोग खुले में कचरा डाल रहे है उसे दिखवाते हैं।

डॉ. राकेश तनेजा, पीएमओ, जिला अस्पताल बूंदी।

खबरें और भी हैं...