पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ज्येष्ठ मास 2021:ज्येष्ठ के व्रत-त्योहार समझाते हैं जल संरक्षण का महत्व

बूंदी9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जानें ज्येष्ठ मास के व्रत व त्योहारों की सही तिथि, जल को समर्पित होते हैं व्रत-त्योहार

ज्येष्ठ मास यानी तपती दुपहरी के दिन और जल संरक्षण का महत्व जानने का महीना की। इस मास में गर्मी का मौसम ऊफान पर होता है। इसलिए हमारे ऋषि-मुनियों ने ज्येष्ठ में जल का महत्व बहुत अधिक माना है। जल को समर्पित व्रत और त्योहार भी इसी मास में मनाए जाते हैं। गर्मियों में पानी की किल्लत से हर कोई परेशान रहता है।यही कारण हैं कि बड़े बुजुर्गों ने इन पर्व को त्योहारों के जरिए पानी का महत्व समझाने का प्रयास किया है। जल के महत्व को बताने वाले ज्येष्ठ मास की शुरुआत 27 मई से हो चुकी है, 24 जून को ज्येष्ठ पूर्णिमा के साथ ही ज्येष्ठ माह की समाप्ति होगी।

कैसे पड़ा इस मास का नाम ज्येष्ठ ? ज्येष्ठ हिंदू पंचांग के अनुसार चंद्र मास का तीसरा महीना होता है। चैत्र और वैशाख मास के बाद आता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह मास अक्सर मई और जून के महीने में पड़ता है। जैसा कि सभी चंद्र मासों के नाम नक्षत्रों पर आधारित हैं ज्येष्ठ माह भी ज्येष्ठा नामक नक्षत्र पर आधारित है।ज्येष्ठ माह के व्रत व त्योहारज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष में तो कोई खास पर्व नहीं है, लेकिन शुक्ल पक्ष में जल के महत्व को बताने वाले दो महत्वपूर्ण त्योहार गंगा दशहरा और निर्जला एकादशी पड़ते हैं। गंगा नदी का महत्व बहुत अधिक माना जाता है। इस माह के महत्वपूर्ण व्रत व त्योहार के बारे में-अपरा एकादशी: एकादशियां तो सभी पावन मानी जाती हैं लेकिन ज्येष्ठ मास की कृष्ण एकादशी को अपरा एकादशी कहा जाता है।। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार अपरा एकादशी 6 जून रविवार को मनाई गई।

ज्येष्ठ अमावस्या : ज्येष्ठ अमावस्या की तिथि बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसका एक कारण तो यह है कि अमावस्या तिथि पूर्वजों की शांति के दान-तर्पण के लिए बहुत ही शुभ मानी जाती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार ज्येष्ठ अमावस्या 10 जून गुरुवार को है।गंगा दशहरा : गंगा दशहरा का त्योहार विशेष त्योहार है। गंगा दशहरा ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह पर्व 20 जून रविवार को है।निर्जला एकादशी : निर्जला एकादशी का उपवास कठिन होता है। इस दिन जल की एक बूंद तक व्रती को ग्रहण नहीं करनी होती है पर उसे दूसरों को जल पिलाना होता है।

खबरें और भी हैं...