पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग्राउंड रिपोर्ट:ऑक्सीजन की कमी...फूल रही अस्पताल की सांसेें, खाली हो रहे 170 सिलेंडर, रोज 300 का स्टॉक हमेशा रहना चाहिए

बूंदी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बूंदी. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के प्रयासों से कोटा से बूंदी को 10 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर दिए गए। - Dainik Bhaskar
बूंदी. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के प्रयासों से कोटा से बूंदी को 10 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर दिए गए।
  • जिला अस्पताल के कोरोना और आइसोलेशन वार्ड में भर्ती 152 में से 105 रोगियों के ही चल रही है ऑक्सीजन

ऑक्सीजन की कमी के चलते जिला अस्पताल प्रशासन की पल-पल सांस फूलती जा रही है। प्रतिदिन 170 ऑक्सीजन सिलेंडर खाली हो रहे हैं। कोरोना और आइसोलेशन वार्ड में भर्ती 152 रोगियों में से 105 को ऑक्सीजन चढ़ाई जा रही है। अस्पताल में अधिकांश रोगी ऑक्सीजन का लेवल डाउन होना सामने आ रहा है। हालात यह है कि न तो अस्पताल में अतिरिक्त बेड है और न ऑक्सीजन सिलेंडर हैं। जिले के सबसे बड़े अस्पताल में मरीजों को इलाज के लिए हाथ जोड़ने पड़ रहे हैं। भर्ती होने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है।अस्पताल में अधिकांश रोगी ऑक्सीजन की कमी के आ रहे हैं। अस्पताल प्रशासन के पास ऑक्सीजन का पर्याप्त स्टॉक नहीं होने से अब रोगियों को भर्ती करने में हाथ-पैर फूल रहे हैं।

एक सिलेंडर में से दो जनों को सप्लाई दे रहे हैं। ऑक्सीजन की पर्याप्त सप्लाई हो नहीं हाेने से अस्पताल प्रशासन जोखिम नहीं उठा रहा है। अस्पताल में 158 बेड में से 152 बेड भरे हुए हैं।इनमें से 105 रोगियों के ऑक्सीजन लग रही है। ऑक्सीजन के 170 सिलेंडर रोज खर्च हो रहे हैं। अस्पताल परिसर में लगे प्लांट की रोज सिर्फ 35 ऑक्सीजन सिलेंडर भरने की क्षमता है। रोज 100 से 150 सिलेंडर रिफिलिंग होकर आ रहे हैं। मंगलवार को 190 सिलेंडर रिफिलिंग के लिए भेजे और 130 सिलेंडर का स्टॉक है। रोज 170 सिलेंडर खाली हाेने से 300 सिलेंडर का स्टॉक हमेशा रहना चाहिए, जबकि क्षमता के अनुरूप स्टॉक नहीं रहता, जिससे भर्ती मरीजों की भी ऑक्सीजन को लेकर नर्सिंग स्टाफ से कहासुनी होती रहती है।

अच्छी पहल...लोकसभा स्पीकर बिरला की प्रेरणा से मिले 10 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर

बूंदी. जिला अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की प्रेरणा से 10 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मिले हैं। बिरला की पहल पर जनसहयोग से स्थापित कोटा ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर बैंक के संस्थापक सदस्य दीपक राजवंशी, हरिओम दाधीच ने विधायक अशोक डोगरा के साथ मंगलवार को ये कंसन्ट्रेटर कलेक्टर आशीष गुप्ता, सीएमएचओ डॉ. महेंद्र त्रिपाठी-पीएमओ डॉ. प्रभाकर विजय की उपस्थिति में जिला अस्पताल को दिए। बैंक पिछले 10 दिनों से कोटा में घरों में भर्ती मरीजों को ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की सुविधा दे रहा है।बूंदी से भी लगातार ऑक्सीजन की कमी और ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की जरूरत की जानकारी मिलने पर बिरला के निर्देश पर बैंक ने बूंदी के लिए भी 10 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मशीनों का ऑर्डर दिया था, जाे सोमवार शाम कोटा पहुंच गए। मंगलवार को इन्हें जिला अस्पताल प्रशासन को दिया गया। फिलहाल ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की मांग ज्यादा-सप्लाई कम है। जैसे ही और मशीन मिलेंगी, जिला अस्पताल औरजिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के स्तर पर भी मशीनें देने का प्रयास किया जाएगा।

ऐसे लड़खड़ाती गई अस्पताल की व्यवस्था...दवाएं 10 दिन से खत्म, रेमडेसिविर भी सीमित

भर्ती रोगियों की संख्या बढ़ने के साथ ही व्यवस्था धीरे-धीरे लड़खड़ा गई है। भर्ती रोगियों काे लगाए जाने वाले इंजेक्शन पिछले 10 दिन से खत्म हो रहे हैं। अस्पताल प्रशासन कई बार लिखकर भेज चुका है, लेकिन सप्लाई नहीं हुई। रेमडेसिविर इंजेक्शन का भी सीमित स्टॉक आ रहा है। डेक्सोना, फ्री पैराशीनर प्लस, डोजा बेटम तीमारदाराें को खरीदकर लाने पड़ रहे हैं। लाखेरी निवासी सोहित अंसारी ने बताया कि 7 दिन पहले पापा को भर्ती कराया था। दो-तीन दिन तक तो सभी सुविधाएं मिल रही थी, लेकिन अब रोगी बढ़ने से दवाओं व सुविधाओं का भी टोटा होने लगा है। रोज 2 से 3 हजार रुपए की दवाई ला रहे हैं। कलेक्टर आशीष गुप्ता ने कहा कि ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मशीन मिलने से भर्ती मरीजों को राहत मिलेगी। अस्पताल प्रशासन पर भी दबाव कुछ कम होगा। इस पहल के लिए उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और कोटा के सदस्यों का आभार जताया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें