केवट परिवाराें ने बिरला काे बताई व्यथा:चंबल से चलती है आजीविका घर ढहा रहे, अब कहां जाएं

बूंदी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नाव चलाने वाले केवट परिवाराें ने बिरला काे बताई व्यथा

चंबल टीले पर अब तक रह रहे नाव चलाने वाले केवट परिवाराें ने कहा कि प्राकृतिक आपदा ने समाज के 7 सदस्याें की जान ले ली। प्रशासन हमें यहां से हटा रहा है। हमारे पुश्तैनी मकान होने से अब जाएं तो कहां जाएं? हमारे मकानों का पट्टा बना हुआ है। परिवाराें की आजीविका नदी से ही चलती है। हमें इधर-उधर ठहरा रखा है। यह व्यथा इन परिवाराें ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के आगमन पर उन्हें बताई। इस पर उन्हाेंने केवट समाज को आश्वस्त किया कि सभी परिवारों का ख्याल रखा जाएगा।पिछले दिनाें मकान धराशायी होने से केवट परिवार के 7 सदस्यों की मौत होने पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शनिवार को पीड़ित परिवार के बीच आकर परिजनों को सांत्वना दी। बिरला ने कहा कि हादसे से सभी स्तब्ध हैं।

पीड़ित परिवार के दुख में सब शामिल हैं। परिवार के पालन पोषण में कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी। अतिवृष्टि से क्षेत्र को जान-माल का काफी नुकसान हुआ है। प्रभावित परिवारों को हरसंभव जल्दी मदद मिले, इसके प्रयास किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री राहत कोष से पीड़ित परिवार के प्रत्येक सदस्यों को दो-दो लाख रुपए जल्दी मिल जाएंगे। लोकसभा अध्यक्ष ने चंबल तट पर हादसे वाली जगह का अवलोकन किया।10 परिवाराें का मसलाचंबल टीले पर रहने वाले 10 परिवाराें काे उपखंड प्रशासन-नगरपालिका प्रशासन ने वहां से हटा दिया है और इस जगह काे पूरा ढहाकर समतल किया जा रहा है।

इन परिवाराें ने बिरला काे खुलकर अपनी परेशानी बताई है। इधर, इन परिवाराें के जिए जगह तय करने काे लेकर 10 अगस्त की नगरपालिका बाेर्ड की मीटिंग में नीतिगत निर्णय हाेना है।राजराजेश्वर से केशवराय मंदिर तक सुरक्षा दीवार बनवाएंधार्मिक नगरी को सुरक्षित रखने के लिए चंबल नदी तट पर राजराजेश्वर मंदिर से केशवराय मंदिर तक सुरक्षा दीवार बनवाने की जरूरत है। शहरवासियों व भाजपाजनों ने लोकसभा अध्यक्ष से इसके लिए आग्रह किया। उन्हाेंने इसका मुआयना किया है। केपाटन में बिरला को सुबह 10.30 बजे आना था। इस शैड्यूल को लेकर प्रशासन ने धर्मशाला में रह रहे पीड़ित परिवार को उसी अनुसार अपडेट कर दिया था।

बाद में शैड्यूल बदलने से शाम चार बजे हेलीकाॅप्टर से कृषिमंडी में बनाए अस्थाई हेलीपेड पर उतकर सड़क मार्ग से पहुंचे।इस दौरान विधायक चंद्रकांता मेघवाल, पूर्व विधायक हीरालाल मीणा, भाजपा नेता बाबूसिंह जादौन, योगेंद्र शृंगी, नरेंद्र मीणा, गोपाल नागर, प्रधान वीरेंद्रसिंह हाड़ा, राजविंता गोचर, श्याममनोहर भगत, राजेश सैनी, शुभम शर्मा, दारासिंह केवट, गौरव मलिक साथ थे।

खबरें और भी हैं...