परिजनों से मिलाया:बूंदी में मिला गुमशुदा बालक, कोटा से दो दिन से लापता था

बूंदीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नाबालिग ने अनाथ बताया, फिर पुलिस काे पता चला कि परिजन दो दिन से तलाश रहे थे

भास्कर न्यूज | बूंदीदो दिन से घर से लापता हुए नाबालिग को आखिरकार बूंदी कोतवाली पुलिस की मुस्तैदी ने परिजनों से मिला दिया। सथूर नाका बाईपास पर देर रात को एक नाबालिग बच्चे को घूमता देखा तो पुलिस भी सकते में आ गई। पुलिसकर्मियों ने बच्चे को विश्वास में लेकर जब उससे यहां घूमने का कारण पूछा तो उसने बताया कि वह अनाथ है। अपनी उम्र 14 साल और नाम राजू बताया। पहनावे से बच्चा अच्छे घर का दिखाई दे रहा था, जिससे पुलिस को उसकी बातों पर संदेह हुआ और वे उसे जीप में बैठाकर शहर कोतवाली ले आए। यहां बाल कल्याण अधिकारी कोतवाली रमेशकुमार ने बच्चे की काउंसलिंग की तो उसने अपना पता कोटा-कुन्हाड़ी बताया।

इस पर पुलिस ने कोटा शहर पीसीआर से संपर्क कर बच्‍चे का फोटो भेजा गया तो पता चला कि इस बच्‍चे के गुम होने के संबंध में पुलिस थाना कुन्‍हाड़ी कोटा में रिपोर्ट दर्ज है। यह बच्चा शनिवार को घर से खेलने के लिए बोल कर निकला जो वापस घर नहीं पहुंचा। सोमवार को कुन्‍हाड़ी थाने के जांच अधिकारी व परिवारजन बूंदी कोतवाली आए, जहां बच्‍चे को परिवारजनों के सुपुर्द किया गया।बच्चे के पिता दुर्गाप्रसाद महावर ने बताया कि पांच बहनों में यह सबसे छोटा है और इकलौता है। वर्ष 2017 में भी यह बिना बताए घर से निकल गया था, जिसे नयापुरा थाना पुलिस ने ढूंढा था। शनिवार शाम 4 बजे बच्चा खेलने के लिए घर से निकला था। घर के पास ही पार्क बने हुए हैं। शाम 6.30 बजे तक घर नहीं लौटा तो तलाशी शुरू की। पहले पास में बेटी के घर उसे तलाश किया, फिर रिश्तेदारों से पूछा।

कुन्हाड़ी थाने में रात 11 बजे रिपोर्ट दर्ज करवाने से पहले बच्चे को बस स्टैंड व कोटा के चौराहाें-तिराहों व उसके साथियों के पास तलाश किया, लेकिन कोई पता नहीं चला। रविवार को 8-10 स्थानों पर सीसीटीवी फुटेज भी चैक किए। एक दो वह नजर भी आया, लेकिन आगे कहां निकला, इसका पता नहीं चल पाया। परिजन बच्चे को तलाशने बूंदी बस स्टैंड पर भी पहुंचे। रात 12.30 कोटा कुन्हाड़ी पुलिस का फोन आया कि बूंदी कोतवाली पुलिस को बच्चा मिल गया है। इस पर रात 2 बजे बूंदी पहुंचे और उससे मिले। सोमवार पुलिस ने बच्चे को सुपुर्द किया।परिजनों का रो-रोकर था बुरा हालबच्चा पांच बहनों में इकलौता भाई होने से सभी परिवारजन उसे खूब प्यार करते हैं। उसके घर से लापता होने से परिवारजनों का हाल बुरा हो गया। दो दिन तक घर में खाना तक नहीं बना।

खबरें और भी हैं...