पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मजदूर बोला...:दर्द तो मेरा भी वही जो सुशांतसिंह के पिता का, पर मुफलिसी ने बेटे का आखिरी बार चेहरा भी नहीं देखने दिया

बूंदी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इकलौते बेटे को खोने के दर्द ने मजदूर-मजबूर पिता को अंदर से तोड़ डाला, मददगार आगे आए
Advertisement
Advertisement

दर्द तो मेरा भी वही है, जो दिवंगत अभिनेता सुशांतसिंह राजपूत के पिता का है, पर मैं गरीब हूं, बेटे के अंतिम संस्कार में शामिल भी ना हो सका! ये अल्फाज मजदूर पिता नसीर के हैं, जिसके बेटे ने यहां से 1700 किमी दूर पश्चिम बंगाल में सुसाइड कर लिया। जब से पुत्र के सुसाइड की खबर आई, गले से दो दिन से निवाला भी नहीं उतरा।  बेटे के खोने के दर्द और ऊपर से मुफलिसी ने गरीब पिता को अंदर से तोड़कर रख दिया। सुबकते हुए कहने लगे... मेरे पास पैसे होते तो मैं भी हेलीकॉप्टर करके अपने बेटे के अंतिम संस्कार में चला जाता। इकलौते जवान बेटे के मृत्यु व उसके अंतिम दर्शन में शामिल ना होने का दर्द हमेशा सालता रहेगा। मजबूर पिता का दर्द छलका तो मददगार हाथ आगे बढ़े। दो दिन से भूखे मजदूर नसीर को पहले खाना खिलाया और फिर ढांढ़स बंधाकर उसे पश्चिमबंगाल के उत्तर दिनाजपुर के लिए रवाना ताे नसीर की आंखें छलक पड़ी।  लॉकडाउन में बूंदी में ही रहे नसीर के 18 वर्षीय इकलौते बेटे कौसर ने बुधवार को बंगाल में अपने घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। नसीर के पास घर लौटने के लिए किराया नहीं था। मुफलिसी में वह नहीं जा पाया। राहुल गांधी के जन्मदिवस पर कांग्रेस प्रवासी सहायता कंट्रोल रूम के प्रभारी चर्मेश शर्मा ने नसीर के लिए गाड़ी का बंदोबस्त कर अपने घर के लिए रवाना किया। कोटा से बंगाल के लिए सीधी कोई ट्रेन नहीं थी। बेटे के गम में खाना-पीना छोड़ चुके मजदूर की हालत बिगड़ती जा रही थी। 

बहुत बदनसीब बाप हूं...
परदेस में अकेले मजदूर का करुण क्रंदन देखकर ढांढ़स बंधाने वालाें को खुद को संभालना भारी पड़ गया। रोते हुए नसीर कह रहा था कि वह ऐसा बदनसीब बाप है, जो बेटे का आखिरी बार चेहरा भी नहीं देख सका। बेटे का जीवन संवारने के लिए ही वह कोसों दूर बूंदी में मजदूरी कर रहा था। 
दो दिन से भूखा-प्यासा...
बुधवार को नसीर को जब घर से खबर मिली कि बेटे ने सुसाइड कर लिया है, तब से नसीर ने कुछ नहीं खाया। शुक्रवार को चर्मेश शर्मा घर से दाल-चावल लेकर पं. खेतेश शर्मा, अंकित बूलीवाल के साथ छत्रपुरा रोड पर प्रवासी मजदूर के पास पहुंचे। बड़ी मुश्किल से वह खाने के लिए तैयार हुआ।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement