वारदात - अपहरण:कोटा-दौसा मेगा हाइवे पर 3 बदमाशों ने बाइक सवार युवक का किया अपहरण, पुलिस ने ढाई घंटे में छुड़ाया

बूंदी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिना नंबर प्लेट की इसी कार से किया था युवक का अपहरण। - Dainik Bhaskar
बिना नंबर प्लेट की इसी कार से किया था युवक का अपहरण।
  • शाम 7.30 बजे वारदात 6 थानों की पुलिस ने की नाकाबंदी, मोबाइल लोकेशन ट्रेस कर रात 10 बजे तीनों आरोपियों को पकड़ा
  • यह थी वजह : खरीदी गई भैंस के 15 हजार रुपए देने में आनाकानी करने पर आरोपियों ने रची थी अपहरण की साजिश

कापरेन थाना इलाके में कोटा-दौसा मेगा हाइवे पर सोमवार देर शाम 7.30 बजे कार सवार 3 बदमाशों ने बाइक सवार युवक का अपहरण कर लिया। उसके साथी की सूचना पर पुलिस ने तुरंत कार्रवाई कर ढाई घंटे में ही अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से युवक को छुड़ा लिया। पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त कार को भी जब्त कर लिया है। तीनों आरोपियों को मंगलवार सुबह कोर्ट में पेश कर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया।थानाधिकारी हरलाल मीणा ने बताया कि थाना क्षेत्र से निकल रहे कोटा-दौसा मेगा हाइवे पर सोमवार रात कार सवार 3 जनों ने बाइक सवार युवक का अपहरण कर लिया। गोपाली थाना टोंक व हाल कापरेन के कल्याणपुरा निवासी जाफरान पुत्र अल्ला रक्खा भैंसों की खरीद-फरोख्त का काम करता है। उसने करीब 3 साल पहले लाखेरी थाना क्षेत्र के खेड़ली एरिया निवासी रामदयाल मीणा (23) पुत्र बाबूलाल से 16 हजार रुपए में एक भैंस खरीदी थी।

इसके एक हजार रुपए तो उसी समय साईं पेटे दे दिए थे। वहीं शेष 15 हजार रुपए देने में जाफरान आनाकानी कर रहा था। आए दिन फोन पर पैसे लेकर आने की बात करता रहा। इससे आरोपियों में नाराजगी ऐसी बढ़ी कि उसने जाफरान के अपहरण की योजना अपने दो दोस्तों के साथ बना ली। आरोपी रामदयाल मीणा ने इंद्रगढ़ थाने के बाबई निवासी दो दोस्तों प्रदीप (24) पुत्र चतुर्भुज मीणा व भीम सिंह (26) पुत्र श्रीराम के साथ कापरेन पहुंचकर रुपए लेने व अपहरण की योजना बनाई और सोमवार देर शाम को कार से कापरेन आ गए।

फोन कर युवक को अड़ीला मेगा हाइवे पर बुलाया, फिर कार में लेकर हुए फरार

कापरेन से जाफरान को फोन करके अड़ीला मेगा हाइवे पर बुलाया। जाफरान अपने साथी के साथ बाइक पर वहां जा रहा था। इसी दौरान दुबे पेट्रोल पंप के पास कोटा की ओर से आती कार ने उन्हें रोका और फिल्मी स्टाइल में जाफरान को खींचकर गाड़ी में डाल लिया और लाखेरी की ओर फरार हो गए। घटना के बाद साथ आए शंकर मीणा निवासी तीरथ ने तुरंत कापरेन थाने पहुंचकर पुलिस को सारी घटना की जानकारी दी। पुलिस ने पहले अधिकारियों को अवगत कराया, फिर केशवरायपाटन, देईखेड़ा, गैंडोली, लाखेरी व इंद्रगढ़ थाने पर सूचना देकर नाकाबंदी करवा दी।

^वारदात में काम ली गई कार जब्त कर ली गई। रामदयाल, प्रदीप व भीमसिंह के खिलाफ अपहरण की धारा 365, 34 आईपीसी में मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया। वहां से उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया है।-हरलाल मीणा, थानाधिकारी, कापरेन

युवक की जुबानी : जान से मारने की दे रहे थे धमकी

अपहृत व्यापारी युवक जाफरान ने आपबीती सुनाते हुए कहा कि सोमवार शाम 5 बजे लाखेरी थाना के खेड़ली निवासी रामदयाल मीणा ने फोन किया कि मैं पैसे लेने कापरेन आ रहा हूं। मैंने हां कर दी, फिर साढ़े 6 बजे दुबारा फोन कर मुझे अड़ीला बुलाया, तो मैं शंकर मीणा को लेकर बाइक से रवाना हुआ था कि अड़ीला व पेट्रोल पंप के बीच सामने से आ रही कार रुकी और हमें भी रुकने को कहा। मैंने जैसे ही बाइक रोकी तो रामदयाल के साथ बैठे दो युवकों ने मुझे खींचकर कार के अंदर ले लिया और लाखेरी की ओर तेज गति से चलने लगे। शहर से बाहर निकलते ही वे लोग जान से मारने की धमकी देने लगे और मेगा हाइवे से बांझडली अंडरपास से होकर संपर्क सड़कों से होते हुए पचीपला से लाखेरी रेलवे स्टेशन के पास से फिर एक संपर्क सड़क के रास्ते पर आगे ले जा रहे थे कि रात करीब 10 बजे पुलिस की जीप नजर आने पर मेरी जान में जान आई। तब तक पुलिस ने कार रोक कर मुझे मुक्त करवाया और अपहर्ताओं सहित सभी को कापरेन थाने ले आए। तब जाकर मुझे राहत व पुनः जिंदगी मिली।

आरोपी पुलिस को चकमा देते रहे, लोकेशन ट्रेस कर पुलिस ने दबोचा

पुलिस ने अपहरणकर्ताओं का पीछा किया, लेकिन अपहरणकर्ता चालाकी दिखाते हुए नाकाबंदी की आशंका को भांपकर सीधे मुख्य मार्ग से नहीं गए। उन्होंने बांझडली रेलवे अंडरपास से कार को मोड़ कर पुलिस को चकमा दिया और नोताड़ा, खेड़ियादुर्जन, खेड़ियामान होते हुए लाखेरी रेलवे स्टेशन के पास से बालापुरा के रास्ते निकल गए। पुलिस लगातार उनका पीछा कर रही थी। आखिरकार पुलिस उनके मोबाइल नंबर से ट्रेस करते हुए सही लोकेशन पर पहुंच गई। रात करीब 10 बजे लाखेरी के बालापुरा रोड पर कार को रोककर तलाशी ली गई तो अपहृत व्यापारी युवक को छुड़ा लिया गया और अपहरणकर्ताओं को पकड़कर कर थाने ले आए।

खबरें और भी हैं...