पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शव लेकर अस्पताल के बाहर बैठे परिजन:अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दौरान महिला की तबीयत बिगड़ी, मौत, 20 लाख का मुआवजा व सरकारी नौकरी देने की मांग

बूंदी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शव के साथ खड़े प्रदर्शनकारियों से समझाइश करते हुए। - Dainik Bhaskar
शव के साथ खड़े प्रदर्शनकारियों से समझाइश करते हुए।

जिले की तालेड़ा पंचायत समिति के अकतासा गांव में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दौरान अधेड़ महिला चमेली बाई की मौत हो गई। इससे आक्रोशित ग्रामीणों ने तालेड़ा अस्पताल के बाहर शव रखकर प्रदर्शन किया और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। परिजनों ने आरोप लगाया कि अतिक्रमण हटाने के दौरान पुलिस द्वारा की गई जोर जबरदस्ती के कारण महिला की मौत हुई है। सूचना के बाद एसडीएम केके मीणा मौके पर पहुंचे और मामले की जानकारी ली। फिलहाल मौके पर विरोध जारी है और ग्रामीण अस्पताल के बाहर शव को लेकर धरने पर बैठे हुए हैं। प्रदर्शनकारी महिला की मौत पर मुकदमा दर्ज करने, 20 लाख रुपए का मुआवजा व परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी की मांग कर रहे हैं।

अस्पताल के बाहर जमा ग्रामीण।
अस्पताल के बाहर जमा ग्रामीण।

दरअसल नान्दा रोड़ रेलवे ट्रैक के पास अतिक्रमण को लेकर सार्वजनिक निर्माण विभाग में शिकायत की गई थी। इसके चलते बुधवार को सरपंच को बिना बताए पुलिस प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की जा रही थी। इसी दौरान एक महिला की मौत हो गई थी। लोगों ने आरोप लगाया कि पुलिस की मारपीट से चमेली बाई की मौत हुई है।

इनका कहना है
जलोदी रोड स्थित अतिक्रमण को हटाने तहसीलदार पुलिस जाब्ते के साथ गए थे। इस दौरान महिला के विरोध करने पर महिला कांस्टेबल द्वारा उसे एक तरफ बैठा दिया गया था, जहां उसकी तबीयत खराब हुई और परिजन जब अस्पताल लाए उसकी मौत हो गई थी। कार्रवाई के दौरान महिला के बेटे ने पुलिस के साथ अभद्रता की थी। पुलिस पर जो मारपीट के आरोप लगाए जा रहे हैं तो बेबुनियाद है।
-के के मीणा, एसडीएम, तालेड़ा

खबरें और भी हैं...