DLB डायरेक्टर ने बूंदी नगर परिषद को पिछड़ा हुआ बताया:बोले- कर्मचारी खुद अतिक्रमण कराएंगे तो कहां से बढ़ेगा इनकम एण्ड सोर्स

बूंदी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डीएलबी डायरेक्टर दीपक नंदी ने बूंदी नगर परिषद को बताया पिछड़ा हुआ - Dainik Bhaskar
डीएलबी डायरेक्टर दीपक नंदी ने बूंदी नगर परिषद को बताया पिछड़ा हुआ

राजस्थान स्वायत शासन विभाग के डायरेक्टर दीपक नंदी ने बूंदी नगर परिषद को राजस्थान में हर योजना में पिछड़ा हुआ बताया है। प्रशासन शहरों के संग अभियान में बूंदी नगर परिषद प्रदेश भर में सबसे निचले स्तर पर रैंकिंग रही है। अन्य परिषद-पालिकाओं के मुकाबले काफी कम पट्टे वितरित किए गए। जिस पर डायरेक्टर दीपक नंदी ने नाराजगी जताते हुए कहा कि अधिकारी कार्य में लापरवाही नहीं बरते और सरकार की योजनाओं को आमजन तक पहुंचाएं।

नगर परिषद आयुक्त ने जब बूंदी नगर परिषद की कंगाली को लेकर सवाल पूछा तो डायरेक्टर दीपक नंदी ने जवाब देते हुए कहा कि जब नगर परिषद के कर्मचारी यह समझ लेंगे कि उन्हें शहर में अतिक्रमण नहीं करवाना है तो नगर परिषद का राजस्व बढ़ जाएगा, उनकी आय बढ़ जाएगी। यदि अतिक्रमण करवाएंगे तो इनकम एंड सोर्स बढ़ नहीं सकते। यहां यह भी बताते चले की 50 करोड़ रुपए की नगर परिषद पर देनदारी है। नगर परिषद की ओर से अब तक प्रशासन शहरों के संग अभियान में 56 लाख रुपए का राजस्व प्राप्त किया है। जिस पर डायरेक्टर दीपक नंदी ने नाराजगी जताते हुए कहा कि यह सबसे कम राजस्व है तोड़ा ओर कोशिश करोगे तो लक्ष्य के करीब पहुंच जाओगे।

गौरतलब है कि डायरेक्टर दीपक नंदी एक दिवसीय दौरे के तहत बूंदी में थे। जहां उन्होंने छत्रपुरा रोड स्थित निजी होटल में नगर परिषद की योजनाओं की कार्यशाला में भाग लिया और प्रगति रिपोर्ट की समीक्षा की। समीक्षा में शहर के नए जोनल प्लान, कच्ची बस्तियां, कृषि कॉलोनी सहित विभिन्न मामलों पर चर्चा की गई। बैठक में बीजेपी पार्षदों ने भी शहर में हो रहे अतिक्रमण का मुद्दा उठाते हुए कहा की अतिक्रमण को जल्द से जल्द बंद करवाया जाए तथा जो पट्टे की फाइलें नगर परिषद में धूल खा रही है। उन्हें प्रभावी रूप से जांच करवा कर पट्टे वितरित किए जाए। डायरेक्टर दीपक नंदी के नगर परिषद प्रशासन को निर्देश दिए है कि वह शहर भर में हो रहे अवैध अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई करें। नियम अनुसार जुर्माना लगाए और नगर परिषद की आर्थिक तंगी को दूर करने का काम करे।