पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

परिजनाें का आराेप:अस्पताल में बेड नहीं मिलने से स्ट्रेचर पर ही दम तोड़ा पॉजिटिव 167

बूंदी16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बूंदी. सर्जिकल वार्ड स्थित आइसोलेशन में बैंच पर लेटा रोगी, जिसे भीतर वार्ड में बेड नहीं मिला। - Dainik Bhaskar
बूंदी. सर्जिकल वार्ड स्थित आइसोलेशन में बैंच पर लेटा रोगी, जिसे भीतर वार्ड में बेड नहीं मिला।
  • बेड नहीं था तो डॉक्टर ने भर्ती क्यों लिखा, अस्पताल प्रशासन की वजह से हुई मौत

संक्रमणकाल में रविवार काे जिलेभर में 167 पॉजिटिव सामने अाए हैं। इसके साथ ही जिला अस्पताल में पूरा भर गया है। इलाज हाेने से पहले बेड नहीं मिलने से औंकारपुरा के 42 वर्षीय युवक ने स्ट्रेचर पर ही दम तोड़ दिया। अस्पताल में बेड खाली नहीं होना बताकर गंभीर रोगियों को भर्ती नहीं किया जा रहा है। बीते रोज उनियारा की महिला को अस्पताल में 3 घंटे तक भी भर्ती नहीं किया गया था। जब बेड खाली हुआ और इलाज शुरू हुआ, तब तक काफी देर हो चुकी थी।महिला ने 5 घंटे में ही दम तोड़ दिया। इस घटना को 24 घंटे भी नहीं हुए थे कि अस्पताल से एक और दर्दनाक खबर आई है।

औंकारपुरा गांव के 42 वर्षीय युवक को तबीयत खराब होने पर परिजन दोपहर 12 बजे जिला अस्पताल के ट्राेमा सेंटर में लेकर आए। ड्यूटी डॉक्टर ने उसकी हालत को देखते हुए आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करने को कह दिया। परिजन युवक को स्ट्रेचर पर लेकर भर्ती करने के लिए चक्कर लगाते रहे।मेडिकल वार्ड में वे भर्ती करने की मन्नतें करते रहे। ऑक्सीजन चढ़ाने के लिए हाथा जोड़ी की, लेकिन बेड खाली नहीं होने से मेडिकल स्टाफ इधर-उधर टालता रहा। 50 मिनट तक भी भर्ती नहीं किया गया और उसकी मेडिकल वार्ड में स्ट्रक्चर पर ही दाेपहर 12:50 बजे मौत हो गई।

बाद में दूसरे लोगों ने आकर बीच-बचाव किया। आपसी समझाइश कर राेष शांत करवाया। दूसरी और, गर्मी का पारा बढ़ना अस्पताल में भर्ती रोगियों के लिए परेशानी बढ़ा रहा है। करीब 150 रोगी अस्पताल में भर्ती हैं, जिनमें से 30-40 राेगियाें ने खुद के पंखे लगा रखे हैं। वार्डों में पंखे हवा नहीं दे रहे हैं। भर्ती रोगियों को जी घबराना, उल्टी जैसा मन होना और सांस लेने में दिक्कत हो रही है।

ऐसी परेशानी...बेड खाली करवाकर बेंच पर लेटा दिया

वार्ड में केपाटन निवासी महिला ने बताया कि पति की बुखार आने के बाद तबीयत बिगड़ गई। 5 दिन से अस्पताल में भर्ती है। पहले तो बेड दे दिया था। ऑक्सीजन की कमी थी तो नर्सिंगकर्मी ने कहा कि अब ऑक्सीजन लेवल सही हो गया है।अन्य मरीजों को ऑक्सीजन चलानी है। ऐसे में बेड खाली करवाकर पति को बेंच पर लेटा दिया। अब पति की हालत खराब है और बेंच पर ही ऑक्सीजन लग रही है। दवाएं भी बाजार से ला रहे हैं। यहां डॉक्टर दवा लिखते हैं और नर्सिंगकर्मी दूसरी पर्ची पकड़ाकर बाजार से लाने की बोलते हैं, जो रुपए लाए थे, धीरे-धीरे खत्म हो गए।पति का दर्द देखा नहीं जाता। बेंच छोटी सी है, उस पर ना तो करवट ले पा रहे हैं, ना पूरे पैर पसार पा रहे हैं। बार-बार घबरा रहे हैं। कोरोना रिपोर्ट 5 दिन में अब तक नहीं आई।

सर्जिकल वार्ड में एक कमरे से दूसरे कमरे में पटक रहे हैं। इसी प्रकार, नैनवां रोड निवासी युवक ने बताया कि छोटा भाई 3 दिन से भर्ती है। 2 दिन पहले लिए कोरोना सैंपल की जांच रिपोर्ट नहीं आई। स्टाफ से बोलते हैं तो वह भी संताेषप्रद जवाब नहीं दे पाते। तबीयत सुधरने की जगह बिगड़ रही है। ऑक्सीजन लेवल डाउन हो रहा है। पूरे वार्ड खचाखच भरे हैं। गर्मी से वार्डों में घबराहट हो रही है।लापरवाही...नहीं लगाई ऑक्सीजनशनिवार को उनियारा से इलाज के लिए लाई गई महिला 3 घंटे तक ट्रोमा सेंटर में हांफती रही। ऑक्सीजन के भरे हुए दो सिलेंडर होने के बावजूद ऑक्सीजन नहीं लगाई। अस्पताल में रोगी बढ़ रहे हैं तो लापरवाही भी सामने आ रही है। ऑक्सीजन सिलेंडर होने के बावजूद स्टाफ और डॉक्टर मरीज के लगाना भूल गए। महिला को 9:30 बजे भर्ती किया, 11:30 बजे ऑक्सीजन लगाई,यानी 2 घंटे बाद महिला को ऑक्सीजन मिली।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें