हादसा - बाइक गोवंश से टकराई, मौत:कोटा में परिवार से मिलकर गेंडौलीखुर्द ड्यूटी पर आ रहे आयुर्वेदिक डॉक्टर की बाइक गोवंश से टकराई, मौत

बूंदी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घटना की सूचना मिलने के बाद से घर पर पत्नी अाैर उनकी दोनों बेटियां बार-बार बेहाेश हाे रही थी। - Dainik Bhaskar
घटना की सूचना मिलने के बाद से घर पर पत्नी अाैर उनकी दोनों बेटियां बार-बार बेहाेश हाे रही थी।
  • खटकड़ कस्बे से आगे कुवागांव के पास सड़क पर अचानक गाय आने से बाइक टकरा गई
  • जिले की बड़ी समस्या...बूंदी में 5 सितंबर को दो सांडों की लड़ाई में महिला का हाथ हो गया था फ्रैक्चर

झालीजी का बराना गेंडौली थाना क्षेत्र के कुवागांव के पास बुधवार सुबह 7.30 बजे अचानक गोवंश सामने आने से बाइक की टक्कर हो गई। इसमें बाइक सवार आयुर्वेद डॉक्टर गंभीर घायल हो गया। इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाते समय रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। सूचना पर पुलिस ने अस्पताल आकर पोस्टमार्टम करवाया और शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया।परिजनों के अनुसार गेंडाैलीखुर्द निवासी आयुर्वेदिक डॉ. रघुनंदन मोदी (53) पुत्र नाथूलाल मोदी कोटा में पढ़ रही अपनी बेटियाें से मिलकर बाइक से बुधवार सुबह गेंडाैलीखुर्द आयुर्वेदिक औषधालय में ड्यूटी पर आ रहे थे।

पत्नी भी बेटियाें के पास काेटा में रह रही है। सुबह ड्यूटी पर जाते समय खटकड़ कस्बे से आगे कुवागांव के पास सड़क पर अचानक गाय आने से उनकी बाइक टकरा गई। जिसमें डॉ. मोदी गंभीर घायल हो गए। वहां से गुजर रहे लोगों ने गैंडोली पुलिस को सूचना दी। इसके बाद पुलिस ने गंभीर घायल डॉ. मोदी को जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने जांच करके मृत घोषित कर दिया। इसके बाद पुलिस ने परिजनाें काे बुलवाकर पोस्टमार्टम करवाया और शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने मृतक के भाई आनंद मोदी की रिपोर्ट पर केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

गांव में पसरा सन्नाटा, सम्मान में दुकानें बंद रही

गेंडाैलीखुर्द निवासी डॉ. मोदी की मौत की सूचना पर ग्रामीणों में शोक छा गया। दुकानदारों ने प्रतिष्ठानाें को बंद कर दिया। मृतक की बुजुर्ग मां संध्यादेवी, पत्नी बबीता, बेटी साल्वी (17) और काव्या (10) का रो-रोकर बुरा हाल था। मृतक की दोनों बेटियां और पत्नी के बार-बार बेहोश होने से रिश्तेदाराें-पड़ाेसियाें को संभालना भी भारी पड़ रहा था। शव काे घर लाते ही मोहल्ले में भीड़ लग गई। ग्रामीणों का कहना है डॉक्टर साहब सबके स्नेही व व्यवहार कुशल होने से हर कोई की आंखें नम थी।

7 वर्षों से गांव में थे कार्यरतडॉ. रघुनंदन मोदी 7 साल से गैंडोलीखुर्द आयुर्वेदिक औषधालय में सेवाएं दे रहे थे। पत्नी अपनी दोनों बेटियां की अच्छी पढ़ाई को लेकर कोटा रही है। डॉ. मोदी परिवार से मिलकर कोटा से बुधवार सुबह ड्यूटी पर आ रहे थे कि रास्ते में दुर्घटना हो गई।

गाेवंश को संभालें, अन्यथा अनुदान बंद : कलेक्टर गाेशालाओं का दायित्व गोवंश की सेवा सुश्रुषा करना है, रास्तों पर विचरण करने वाले और बैठने वाले गोवंश को गाेशाला में रखने की वे जिम्मेदारी लें अन्यथा अनुदान नहीं दिया जाएगा। कलेक्टर ने जिलास्तरीय यातायात प्रबंधन समिति की बैठक यह बात कही। उन्हाेंने सड़क पर घूमने वाले मवेशियों पर रिफ्लेक्टर लगाकर उन्हें गोशाला में भेजने के निर्देश दिए। यह भी कहा कि सड़क पर ब्लैक स्पॉट चिन्हित कर उन्हें सुधारा जाए। नो रिफ्लेक्टर-नो व्हीकल अभियान को प्रभावी बनाया जाना चाहिए। जिला परिवहन अधिकारी कार्यालय और यातायात पुलिस विभाग को भी ट्रैफिक मैनेजमंेट की दिशा में काम करना चाहिए, ताकि सुगम यातायात प्रभावित ना हो।-रेणु जयपाल, कलेक्टर

खबरें और भी हैं...