पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ठगी का मामला:कूपन स्क्रेच कर साढ़े 4 लाख रुपए के इनाम का दिया था झांसा, पेंशनर से 2 लाख ठगकर चंपत हो गए बदमाश

बूंदी9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

लॉटरी का लालच देकर तीन ठगों ने शहर की सबसे सुरक्षित मानी जानेवाली पुलिस लाइन रोड से 70 साल के बुजुर्ग पेंशनर से दो लाख रुपए ठग लिए। शहर की गुलाब विहार कॉलोनी में रहनेवाले बुजुर्ग संपतकुमार जैन वाटर वर्क्स के रिटायर्ड कार्यालय सहायक हैं। संपत जैन पोते-पोतियों के साथ जैन मंदिर में दर्शन कर घर लौट रहे थे। कॉलेज तिराहा से जैसे ही उन्होंने पुलिस लाइन रोड की तरफ टर्न लिया, वहां थैला लिए एक ठग ने उन्हें हाथ देकर रोका और पता पूछने के बहाने बातों में उलझाकर लॉटरी का लालच दिया। इस बीच प्लान के मुताबिक दो और ठग आ गए।

तीनों ने बातों में उलझाया और इतना लालच दिया कि सोचने का मौका ही नहीं मिला। जैन बातों में फंस गए और उन पर इतना भरोसा कर लिया कि घर पर मौजूद बेटे-बहू तक को भी नहीं बताया और अलमारी में मकान निर्माण का काम चलाने के लिए रखे दो लाख रुपए चुपचाप निकालकर ठगों को सौंप दिए। ठग झांसा देकर चंपत हो गए। बाद में कोतवाली थाने में अज्ञात ठगों के खिलाफ रिपोर्ट दी।

पीड़ित संपतकुमार जैन की जुबानी...ठग बोला- आपकी पोती की किस्मत जोरदार है, आप भी कूपन खरीद लो

गुरुवार सुबह 10:15 बजे स्कूटी से पोते-पोती को साथ लेकर चौगान जैन मंदिर दर्शन करने गया। करीब 11 बजे कोटा रोड होते हुए लौट रहा था। पुलिस लाइन रोड की तरफ टर्न किया तो 30-32 साल की उम्र के एक युवक ने रुकवाया और विकलांग बच्चों के कैंप के बारे में पूछा और बताया कि विकलांग बच्चों के लिए इनामी कूपन बांटने हैं।

उसी वक्त बाइक से दो युवक भी आ गए। बिना नंबर की बाइक पर बैठे एक युवक ने सुरेंद्रसिंहजी के मकान का पता पूछा। मैंने कॉलोनी का नाम पूछा तो उन्होंने मुझे चार-पांच मिनट बातों में उलझाए रखा। बाइक वाले युवक ने कूपन लिए खड़े युवक से कूपन के बारे में पूछा तो उसने बताया कि वह विकलांग शिविर में बच्चों को इनामी कूपन देने आया है।

200 रुपए का एक कूपन है, जो भी कूपन में निकलता है, हम ग्राहक को कंपनी की ओर से हाथोंहाथ पैसे दे देते हैं। बाइकवाले एक युवक ने 200 रुपए वाला कूपन स्क्रेच किया तो 500 रुपए का इनाम निकला। हाथोंहाथ युवक ने बाइक सवार को 500 रुपए दे दिए।

युवकों ने दो-दो सौ रुपए के दो और कूपन लिए। स्कूटी पर पीछे बैठी मेरी पोती देवांशी से युवक ने कूपन स्क्रेच करने को कहा। पोती ने स्क्रेच किया तो 1000 रुपए का इनाम निकला। युवक ने कहा कि आप की पोती की किस्मत तो जोरदार है। फिर उसने एक और कूपन स्क्रेच कराया, उसमें भी 1000 रुपए निकले।

तीनों ठगों ने बातों में ऐसा उलझाया कि कुछ समझ न सके

कूपन वाले युवक ने कहा कि देखो आपके सामने ही 600 रुपए के तीन कूपन में 2500 रुपए निकले हैं। आपकी पोती की किस्मत जोरदार है। आप भी कूपन खरीद लो। मन में लालच और उत्सकुता बढ़ गई। मैंने 200 रुपए देकर एक कूपन ले लिया, पर उसमें 70 रुपए ही निकले। इस पर युवक बोला कि आपको तो नुकसान हो गया। इस बीच वह युवक बाइक सवारों से बात करने लगा कि मेरे पास 10 हजार रुपएवाले कूपन भी हैं। इनमें 10 हजार रुपए से ज्यादा के ही इनाम निकलेंगे। बाइक सवार युवक ने एक कूपन लेकर स्क्रेच किया तो 12 हजार का इनाम निकला।

युवक ने बाइक सवारों को 10 हजार रुपए कूपन के काटकर 2000 नकद दे दिए। फिर युवक बोला कि मैं आपको 10 हजार रुपएवाले 20 कूपन देता हूं, फिर तो कुछ न कुछ निकलेगा ही। जैसे ही पोती ने कूपन स्क्रेच किए तो साढ़े चार लाख रुपए का इनाम निकला। उन्होंने कहा कि आपका तो भाग्य ही खुल गया। बदमाशों ने विश्वास जमाने के लिए मुझे ये भी सलाह दी कि आपकी पोती ने आपको 2 मिनट में लखपति बना दिया है।

अब इनमें से से आप 11 हजार रुपए का चारा गोशाला में जरूर डलवाना। फिर उसने कहा कि साढ़े चार लाख रुपए तब मिलेंगे, जब ये मुझे 10 हजार रुपए के हिसाब से 20 कूपन के दो लाख रुपए देंगे। मैंने कहा कि इतने रुपए तो अभी मेरे पास नहीं है। थोड़ी दूर ही मेरा घर है। मैं 10-15 मिनट में लाकर दे दूंगा।

दो लाख लेने मेरे साथ घर तक आए बदमाश

एक बाइक सवार बोला कि मैं आपके साथ ही चलता हूं और वह मेरे पीछे बाइक से घर तक आ गया। मैंने अलमारी से पांच-पांच सौ रुपए की चार गड्डियां यानी दो लाख रुपए निकालकर थैले में रखे और स्कूटी से आने लगा। बाइक सवार भी मेरे साथ आ गया। प्याऊ के पास पहुंचता, उससे पहले ही बाकी के दो युवक पुलिस लाइन रोड पर ही मिल गए। बाइक सवार ने कूपनवाले को बोला कि अब इन्हें साढ़े चार लाख रुपए दे दो। मैंने थैला उसे दे दिया। इस पर युवक ने मेरी आईडी मांगी कि पहले यह कंपनी को ऑनलाइन भेजनी पड़ती है, उसके बाद रुपए मिलेंगे।

मैंने कहा आईडी तो घर पर है। बाइक सवार युवक बोला कि हम आपके घर पर ही चलते हैं। वहीं आईडी लेकर पैसे दे देंगे। पैसों का थैला उनके हाथ में ही रहा। मैं स्कूटी घुमाकर मुड़ा, तब तक वे आगे निकल गए। मैं पीछे-पीछे चल रहा था। एसपी ऑफिस के तिराहे पर मुड़ गए। वहां आने पर मुझे 10-15 सैकंड लगे, तब तक वे आंखों में धूल झोंक चुके थे। मैंने आसपास की गलियों में भी ढूंढ़ा, पर वे नजर नहीं आए। मैं समझ गया कि फ्रॉड हो गया। मेरे हाथ-पांव फूल गए, घबरा गया। तुरंत घर पहुंचा और परिवारजनों ओर मोहल्लेवालों को बताया। मैंने मकान का काम चला रखा है। पैसे उसी के लिए बैंक से लाकर रखे हुए थे। फिर कोतवाली में रिपोर्ट दी।

पुलिस खंगाल रही फुटेज
पुलिस की ओर से जगह-जगह खंगाले गए सीसीटीवी फुटेज में नजर आ रहा है कि बाइक सवार तीनों बदमाश एसपी ऑफिस के टर्न पर बुजुर्ग की आंखों में धूल झोंककर देवपुरा रोड होते हुए सदर थाने के पास फिर कोटा रोड पर आ गए और वहां से वारदात स्थल कॉलेज तिराहा तक आए।

यहां तिराहा के अपोजिट पीएचईडी ऑफिसवाली रोड पकड़ी और उधर से कुंभा स्टेडियम होकर छतरपुरा की ओर निकल गए। पुलिस की खोज छतरपुरा जाकर अटक गई, क्योंकि आगे सीसीटीवी नहीं हैं। अब वे नेशनल हाइवे-52 पकड़कर जयपुर साइड गए या कोटा साइड, यह पता नहीं चला था। हालांकि हाइवे स्थित ढाबों, होटलों के सीसी टीवी फुटेज भी खंगाले जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें