पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तिल चौथ:आज तिल चौथ, मेले पर रोक, लेकिन श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे

बूंदी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मीरागेट से आगे गाड़ियां नहीं जाने दी जाएगी, केवल पैदल ही दर्शन करने जा सकेंगे, कई जगह भंडारे

तिल चौथ पर रविवार को शहर से बाहर बाणगंगा पहाड़ी स्थित चौथ माता का मेला इस बार नहीं भरेगा, हालांकि श्रद्धालु कोविड गाइडलाइन के अनुसार दर्शन कर सकेंगे। कोरोना को देखते हुए मेले पर प्रशासन के राेक लगा दी है। मेला नहीं भरेगा, लेकिन श्रद्धालुओं का अाना-जाना दिनभर चलेगा। हजारों श्रद्धालु दर्शन करने पहुंचेंगे।श्रीचाैथमंदिर विकास समिति के अध्यक्ष गोपाल गुर्जर ने बताया कि सुबह छह बजे चौथ माता की आरती होगी। मंदिर के प्रवेश पर लगी स्थाई दुकानों को छोड़कर मेले के लिए दुकानें लगाने आए काराेबारियाें को प्रशासन ने लौटा दिया। शहर में कई जगह बेरिकेड्स लगाए गए हैं। टीआई रविंद्र सेन ने बताया कि दलेलपुरा से शहर के बहादुरसिंह सर्किल तक ट्रैफिक बंद रहेगा। शहर में मीरागेट, बड़ा रामद्वारा, दलेलपुरा मार्ग ब्लॉक रहेंगे। मीरागेट से आगे गाड़ियां नहीं जाने दी जाएगी, केवल पैदल ही दर्शन करने जा सकेंगे। प्रशासन के आदेशानुसार मंदिर में श्रृद्धालुओं की भीड़ इकट्‌ठा नहीं होने दी जाएगी। कोविड गाइडलाइन के अनुसार दर्शन कर सकेंगे।उल्लेखनीय है कि चौथ माता का मेला जिले के बड़े मेलों में से एक है और मेले में एक लाख से ज्यादा श्रद्धालु आते हैं। बाणगंगा एरिया में तो तिल धरने की जगह नहीं रहती। बूंदी के बाजार भी सुबह से शाम तक हजारों लोगों की मौजूदगी से गुलजार रहते हैं। मेले में आनेवाले श्रृद्धालुओं से बाजार को लाखों रुपए की आय होती है। रेहड़ी-ठेलेवालों से लेकर दुकानदारों को अच्छी कमाई हो जाती है। तड़के चार बजे से लोग दर्शनों के लिए आने लगते हैं। दूरदराज से पैदल आनेवाले लोग रात को ही गांवों से रवाना हो जाते हैं। मेले पर रोक से लोग नाराज हैं। उन्होंने फैसले को अनुचित बताया है। विजयवर्गीय समाज के अध्यक्ष माधवप्रसाद विजयवर्गीय ने भी नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने कहा है कि कोविड के खतरे में मतदान कराया जा सकता है तो मेला क्यों नहीं भर सकता। इस मेले से सैकड़ों लोगों को रोजगार मिलता है तो मंदिर को भी अच्छी खासी आमद होती है। श्रद्धालु बरवाड़ा की चौथ के दर्शन करने जा रहे हैं। मार्ग में जगह-जगह माता के भक्तों द्वारा भंडारे भी लगाए जा रहे हैं तो फिर बूंदी में मेला निरस्त करने का क्या औचित्य है। इधर, रविवार को ही मतगणना भी होगी, साथ ही इस दौरान शहर में पल्स पोलियो अभियान भी चलाया जाएगा, लेकिन इन सबमें कोरोना का हवाला नहीं दिया जाता।

देई| चौथ का बरवाड़ा जा रहे पदयात्रियों के लिए शनिवार को कृष्णा यूथ क्लब की ओर से 13वां भंडारा लगाया गया। क्लब सदस्य रामस्वरूप मीणा ने बताया कि अलीगढ़ मोड पर चाचोला बालाजी के स्थान पर भंडारे में दस हजार भोजन के पैकेट बांटे गए। कस्बे के महावीर सैनी, शिवनंदन शर्मा, बालकिशन सोनी, शिवप्रसाद विजय, बृजवीरसिंह, शिवनंदन गुप्ता, महावीर बैरागी, बंटी जैन, कैलाश जांगिड़, अंजनी शर्मा, टीकम शर्मा ने सेवाएं दी।झालीजी का बराना| पदयात्रियों के लिए बस स्टैंड लाल बाई माता मंदिर पर तीन दिन से भंडारा चल रहा है। वहीं कस्बे सहित आसपास के गांवों से बड़ी संख्या में पदयात्री चौथमाता के दर्शनों को रवाना हुए।नमाना| कस्बे में ग्रामीणों के सहयाेग से पदयात्रियों के लिए भंडारा संचालित किया। इसमें गाजर का हलवा, फलहारी व दूध वितरण किया। भंडारे में तेजराज सुमन, मनोज सुमन, तेजराज सुमन, दिनेश जांगिड़, त्रिलोक राठौर, जमनाशंकर राठौर, कपिल चित्तौड़ा, महावीर बैरवा, मोहनलाल जांगिड़, हरिप्रसाद शर्मा, विजय मंडावरा, नरेंद्रसिंह, गिरिराज जांगिड़, रामप्रकाश जांगिड़, महेंद्रसिंह ने सेवाएं दी।लाखेरी| शहर में चौथमाता पैदल यात्रियों के लिए मेगा हाइवे पर मांडपा बालाजी सालमधरा और बॉटम बाजार माली शिव मंदिर प्रांगण में पदयात्रियों का भंडारा देर रात तक चलता रहा। पैदल यात्री काफी संख्या में माता के दरबार में जयकारों के साथ पहुंच रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें