शुद्ध के लिए युद्ध अभियान:मिलावटखोरी के खिलाफ आज से शुद्ध के लिए युद्ध अभियान, दिवाली तक लेंगे सैंपल

बूंदी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिवाली को देखते हुए गुरुवार से खाद्य सामग्री में मिलावटखोरी के खिलाफ जिले में शुद्ध के लिए युद्ध अभियान का आगाज होगा। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से 14 अक्टूबर से शुद्ध के लिए युद्ध अभियान चलाया जाएगा, जो दिवाली तक चलेगा। त्योहार पर दूध और उससे बनी मिठाई व खाद्य सामग्री की अच्छी बिक्री होती है। ऐसे में खाद्य सामग्री में मिलावट की आशंका बढ़ जाती है। इसे रोकने के लिए चिकित्सा विभाग दीपावली तक मिलावटखोरों के खिलाफ अभियान शुरू कर रहा है।सीएमएचओ डॉ. महेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि 14 अक्टूबर से दीपावली के दिन तक शुद्ध के लिए युद्ध अभियान चलाया जाएगा। फूड इंस्पेक्टर शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में खाद्य पदार्थों के सैंपल लेंगे।

सीएमएचओ ने बताया कि होटल, दुकान, मिष्ठान्न भंडार से दूध, घी, मावा, मिठाइयां, लस्सी समेत तेल, मिर्च-मसाले व अन्य खाद्य पदार्थों की सैंपलिंग की जाएगी। सैंपल प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजे जाएंगे।क्या है नियमफूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड एक्ट-2006 के तहत मिलावटी सामग्री बेचनेवाले दुकानदारों पर जुर्माने का प्रावधान है और उन्हें जेल भी जाना पड़ सकता है। खाद्य सुरक्षा कानून के तहत 12 लाख रुपए सालाना आयवाले व्यवसायी को खाद्य लाइसेंस लेना अनिवार्य है। इस कानून के तहत खुले में बेची जा रही और मिलावटी सामग्री के सैंपल भरने का प्रावधान है। सैंपल फेल होने की स्थिति में दुकानदार के खिलाफ कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। इस स्थिति में 10 लाख रुपए तक जुर्माना और सजा भी हो सकती है।

जिस प्रकार का खाद्य पदार्थ मांगा गया है, वैसा नहीं दिए जाने पर 2 लाख रुपए जुर्माने का प्रावधान है। घटिया स्तर की खाद्य सामग्री बेचने पर 3 लाख रुपए जुर्माना, निर्धारित समय में जुर्माना अदा नहीं करने पर एक से तीन साल की कैद का प्रावधान है।^दूध और दूध से बनी खाद्य सामग्री पर विशेष ध्यान रखा जाएगा। साथ ही जो दुकानदार मिलावटखोरी में पहले पकड़े जा चुके हैं, उन पर विशेष नजर रखी जाएगी।-सत्यनारायण गुर्जर, फूड इंस्पेक्टर, बूंदी^त्योहारी सीजन में गुरुवार से जिले में नकली मावे के अलावा दूध, घी, मिठाई में मिलावट, दुकान व खाद्य सामग्री निर्माण में स्वच्छता की जांच की जाएगी।-डॉ. महेंद्र त्रिपाठी, सीएमएचओ

खबरें और भी हैं...