अच्छी पहल:मानव जब जोर लगाता है, पत्थर पानी बन जाता है : सोनू सूद

बूंदी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • भोमपुरा में बांध बनाने के जज्बे को देखकर अभिनेता सोनू सूद ने लोगों को किया सैल्यूट

13 गांव के लोगों द्वारा भोमपुरा में 45 लाख की जनसहयोग राशि से बनवाए गए बांध का जिक्र फिल्म अभिनेता सोनू सूद ने भी किया है। सोनू सूद का एक वीडियो साेशल मीडिया पर मौजूद है, जिसमें वे भोमपुरा के ग्रामीणों के जज्बे को सलाम करते नजर आ रहे हैं। सोनू सूद वीडियो में कह रहे हैं-कभी पानी की कमी से जूझते इस गांव ने मिलकर कोशिश की तो सूखा मिट गया। वे कहते हैं कि एकता की बेमिसाल कहानी है यह। मानव जब जोर लगाता है तो पत्थर भी पानी बन जाता है...यह कहावत इस गांव में चरितार्थ होती है। बूंद-बूंद से सागर भरता है बूंदी के लोगों ने यह साबित कर दिखाया है। यह ऐसी कोशिश है, जिसे राजस्थान में जल समस्या के समाधान का वाटर रोल मॉडल बनाया जा सकता है।

13 गांवों के लोगों ने 45 लाख रुपए जुटाकर 29 दिनों में बना दिया बांध

बामनगांव के 13 गांवों के लोगों ने क्षेत्र में जलसंकट दूर करने के लिए दो माह पूर्व जनसहयोग से 45 लाख रुपए जुटाकर 29 दिनों तक 6 जेसीबी, 46 ट्रैक्टर ट्राॅली के साथ साथ शिफ्टों में मेहनत कर 2050 फीट लंबी, 80 फीट चौड़ी और 29 फीट ऊंची पाळवाला लंबा-चौड़ा बांध बना डाला। बगैर इंजीनियर और सरकारी मदद के देशी तरीके से बनाए गए बांध में इतना पानी भर गया कि अगर कई साल बारिश ना हो तो आसपास के गांवों को पानी का संकट नहीं झेलना पड़े। हालांकि बिना इंजीनियर और रिस्क फैक्टर की पड़ताल किए बिना और बिना सरकार की परमिशन के बनाया गया यह बांध प्रशासन के गले की फांस बन गया है। जलसंसाधन विभाग के इंजीनियराें-अधिकारियों को जवाब देते नहीं बन रहा।

खबरें और भी हैं...