पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Dai
  • In Order To Bury The Lakeri Police, A Container Full Of Cow Dynasty Hid In The Forest, After A While, The Deikheda Police Caught Sight, Caught The Smuggler

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सजगता से बचाए गोवंश:लाखेरी पुलिस को गच्चा देने के लिए गोवंश से भरा कंटेनर जंगल में छुपाया, थोड़ी देर बाद लेने आए तो देईखेड़ा पुलिस की पड़ी नजर, पकड़ा गया तस्कर

देई5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कंटेनर में 28 गोवंशों को भर रखा था, दो मृत मिले, पुलिस कार्रवाई में बाकी तस्कर भागे

खेड़ा देईखेड़ा पुलिस ने सोमवार को कार्रवाई करते हुए कंटेनर में भरे 26 गोवंश को गोरक्षा दल के कार्यकर्ताओं के सहयोग से मुक्त करवाया, जबकि दो गोवंश मृत पाए गए। पुलिस ने एक तस्कर को गिरफ्तार किया है, जिससे पूछताछ की जा रही है। नाकाबंदी तोड़ने के बाद पीछा कर रही लाखेरी पुलिस को गच्चा देने के लिए तस्करों ने गौवंश से भरे कंटेनर को जंगल में छुपा दिया, लेकिन कंटेनर को जंगल से बाहर निकालने के दौरान देईखेड़ा पुलिस की नजर पड़ गई।जानकारी के अनुसार अलसुबह गोरक्षा दल के नितेश गांधी को सूचना मिली कि उनियारा (टोंक) की ओर से गोवंश से भरा एक कंटेनर आ रहा है, जो इंद्रगढ़-लाखेरी होता हुआ बारां की ओर निकलेगा। इस पर पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी गई। वहीं, गांधी ने कापरेन-केशवरायपाटन के गोरक्षा दल के कार्यकर्ताओं को भी अलर्ट कर दिया। लाखेरी में पुलिस ने थाने के बाहर बैरिकेडिंग कर नाकाबंदी की हुई थी। सुबह 6.30 बजे कंटेनर आता दिखा, जिसे पुलिस ने रोकने का प्रयास किया, लेकिन कंटेनर नाकाबंदी को तोड़कर तेजी से निकल गया। इस पर पुलिस की गाड़ी उसके पीछे लग गई। पुलिस को गच्चा देने के लिए तस्करों ने कंटेनर को मेगा हाइवे पर लगा दिया और लबान-देईखेड़ा के बीच जंगल में खड़ा कर दिया। इसी बीच देईखेड़ा एसएचओ सत्यनारायण के नेतृत्व में नाकाबंदी कर दी गई। करीब आधे-पौन घंटे बाद तस्करों ने कंटेनर को बाहर निकाला और आगे जाने की बजाय वापस लौटने के लिए उसे मोड़ने लगे तो देईखेड़ा पुलिस की नजर पड़ गई।

तस्करों ने कंटेनर में गोवंश को ठूंस रखा था। उनके पैर व सिर बंधे हुए थे, ताकि वे हिले नहीं। कंटेनर के अंदर ही पार्टिशन किया हुआ था, जिसमें भी गोवंश भरा हुआ था। इन्हें जब मुक्त करवाया तो 26 गोवंश जिंदा मिले, दो की मौत हो चुकी थी। इस कार्रवाई में परमेंद्रसिंह राणावत, पप्पूलाल मेघवाल, केशवरायपाटन के गोसेवक अंबेश भगत, कापरेन के कमलाशंकर का पूरा सहयोग रहा। गौरक्षा दल कार्यकर्तागांधी ने बताया कि कंटेनर के गेता-माखीदा पुलिया पर आने की संभावना के चलते सभी कार्यकर्ता इटावा पहुंच गए, लेकिन कंटेनर नहीं आया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें