पंचायतीराज उपचुनाव:आमेठा में पति की मौत के बाद पत्नी को चुना सरपंच, डोडी में प्रहलाद बने मुखिया

झालावाड़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अकलेरा. वोट देकर आती 90 वर्षीया कस्तूरी बाई। - Dainik Bhaskar
अकलेरा. वोट देकर आती 90 वर्षीया कस्तूरी बाई।
  • जिले में दो ग्राम पंचायतों में सरपंच पद और आठ वार्ड पंचों के चुनाव संपन्न

जिले में दो ग्राम पंचायतों में सरपंच पद और आठ वार्ड पंचों के उपचुनाव मंगलवार को हुए। इसमें आमेठा में काफी रोचक मुकाबला देखने को मिला। यहां पति की मृत्यु के बाद जब सरपंच की कुर्सी खाली हुई तो पत्नी आगे आई। लोगों ने भी दिवंगत सरपंच की पत्नी लक्ष्मी कुंवर को ही मुखिया के रूप में चुना।इसी तरह डग पंचायत समिति की डोडी ग्राम पंचायत में दादी राजा बाई की मृत्यु के बाद सरपंच की कुर्सी खाली हुई तो पोती कुशाल बाई ने भी भाग्य आजमाया, लेकिन यहां पर इनको नकार दिया गया। यहां इनके प्रतिद्वंदी प्रहलादसिंह को विजय प्राप्त हुई। आमेठा में लक्ष्मी कंवर के पति की मृत्यु मई माह में हो गई थी।

उसके बाद उन्होंने हिम्मत रखी और पूरे हौसले के साथ चुनाव मैदान में डटी रहीं। इसी का नतीजा है कि उन्हें जीत मिली है। सरपंच लक्ष्मी कंवर का कहना है कि पति के गांव के विकास के सपने को आगे बढ़ाना है। इसीलिए वह चुनाव में खड़ी हुईं।8 वार्डों में हुए उपचुनाव 17 निर्विरोध निर्वाचितजिले में आठ वार्डों में वार्ड पंचों के उपचुनाव भी हुए। 25 वार्ड रिक्त हो गए थे इनमें से 17 वार्डों में निर्विरोध निर्वाचन हो गया जबकि 8 वार्डों में चुनाव से वार्ड पंच निर्वाचित हुए।

आमेठा में लक्ष्मी ने 300 मतों से जीत दर्ज की

अकलेरा. ग्राम पंचायत आमेठा में सरपंच पद के उपचुनाव हुए। इसमें लक्ष्मी कंवर ने 300 वोटाें से जीत प्राप्त की। यहां 4688 मतदाता हैं। इनमें से 3706 ने वोट डाले। सुबह 8 बजे से ही मतदान का सिलसिला शुरू हो गया था। शाम पांच बजे तक लोगों ने वाेट डाले। इसके बाद 6 बजे से मतगणना शुरू हुई तथा इसके तुरंत बाद ही परिणामों की घोषणा की गई। इसमें लक्ष्मी कंवर को 1562 मत मिले, जबकि कमलेश कुमारी मीणा को 1262, रमेश भील को 684 और कृष्णा लोधा को 160 मत ही मिल पाए। यहां नोटा में 38 मत मिले। इसके बाद लक्ष्मी कंवर को 300 वोटों से विजय घोषित किया। आमेठा में सरपंच वीरेंद्रप्रताप सिंह की मई माह में मृत्यु हो गई थी।

कई लोग बिना वोट डाले लौटेआमेठा में जब वोटिंग शुरू हुई तो यहां कई लोगों के मतदाता सूची से नाम गायब मिले। इस पर लोगों ने विराेध जताया, फिर भी उन्हें बिना मतदान किए ही लाैटना पड़ा। यहां करीब छह माह पहले ही वोटिंग हुई थी। तब इन लोगों के मतदाता सूची में नाम थे, लेकिन उपचुनाव में इनके नाम गायब मिले। एसडीएम संताेष मीणा का कहना है कि िजन लोगों के मतदाता सूची से नाम हट गए हैं उसकी विस्तृत जांच की जाएगी। यहां उपचुनाव में 8 लोगों ने नामांकन दाखिल किया था। नाम वापसी के बाद 4 प्रत्याशी मैदान में रह गए थे। यहां सामान्य सीट होने के चलते 1 पुरुष और 3 महिला प्रत्याशी मैदान में थीं। एसडीएम संतोष कुमार मीणा, डीएसपी देवेंद्र सिंह राजावत, डीएसपी राजीव परिसर माैजूद रहे।

खबरें और भी हैं...