सारोला में लगे CCTV कैमरे खराब:शहर 4 लोकेशन पर कैमरे बने शो-पीस, आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस को करनी पड़ती है मशक्कत

झालावाड़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में लगे सीसीटीवी कैमरे खराब। - Dainik Bhaskar
शहर में लगे सीसीटीवी कैमरे खराब।

झालावाड़ जिले के सारोला कस्बे में सार्वजनिक जगहों पर लगे सीसीटीवी कैमरे लंबे समय से खराब पड़े हैं। इस कारण शहर के भीड़भाड़ वाले बाजार में कोई वारदात होने के बाद पुलिस को फुटेज नहीं मिल पाती है। ऐसे में पुलिस को वहां आसपास की दुकानों में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज पर निर्भर रहना पड़ता है। कस्बे में इक्का-दुक्का दुकानों पर ही सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। ऐसे में कई बार पुलिस को फुटेज नहीं मिल पाती है और आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है। कस्बे में कानून व्यवस्था की स्थिति पर नजर रखने के लिए बड़ी राशि खर्च सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे, लेकिन रखरखाव नहीं होने से यह सुविधा बंद पड़ी है।

सारोला कस्बे में करीब 4 लोकेशन पुलिस थाना सारोला के सामने, अस्पताल चौराहा, चापाखुर रोड़ तिराहे और सिलीगुड़ी महादेव मंदिर के यहां लगे कैमरे कई दिनों से खराब पड़े हैं। विभिन्न चौराहों, तिराहों पर सुरक्षा की दृष्टि से लगे सीसीटीवी कैमरे खंभों पर शो पीस की तरह लटके हैं। सार्वजनिक स्थानों पर लगे सीसीटीवी कैमरे बंद होने के कारण पुलिस चोरी, हत्या, लूट या नकबजनी जैसी वारदातों के आरोपियों को आसानी से नहीं पकड़ पाती है। कई अपराधी तो पुलिस की गिरफ्त में भी नहीं आते हैं।

स्थानीय लोगों ने बताया कि वर्तमान में कस्बे की जनसंख्या करीब 8 हजार के करीब है, जो 17 वार्डों में रहती है। औसतन दो हजार की आबादी पर एक कैमरा होना आवश्यक है। कस्बे में बालापुरा तिराहा, सेंट्रल बैंक चौराहा, मस्जिद चौराहा, अस्पताल चौराहा, चापाखुर रोड तिराहे पर कैमरों की सख्त आवश्यकता है और जो कैमरे लगे हैं उनको भी सही करवाने की जरूरत है।

इनका कहना है
सारोला कस्बे में सीसीटीवी कैमरे बन्द पड़े हैं। यह मामला मेरी जानकारी में आया है। शीघ्र ही सीसीटीवी कैमरे लगाने का प्रयास करेंगे।
-रामकिशन मीणा, उपखंड अधिकारी, खानपुर

खबरें और भी हैं...