पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अब पुलिस करेगी आईएएस बनने का सपना पूरा:माता-पिता से बिछ‌ड़ने के बाद भी 8वीं तक स्कूल की टॉपर रही कृष्णा, अब पुलिस करेगी आईएएस बनने का सपना पूरा

भवानीमंडीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दृढ़ इच्छाशक्ति से मुश्किलों में कैसे विजय प्राप्त की जाती है, यह साबित किया है बुडनपुर की 15 वर्षीय बालिका कृष्णा कुमारी ने। माता-पिता से बिछड़ने के बाद भी उसने अपना संयम नहीं खोया। जगन्नाथ बाल आश्रम में रहकर दृढ़ इच्छाशक्ति के चलते उसने अपनी पढ़ाई शुरू की। कक्षा पहली से लेकर आठवीं तक बालिका स्कूल की टाॅपर रही। पुलिस की मदद से बालिका 9 वर्ष बाद अपने माता-पिता से मिल सकी। बालिका आगे पढ़कर आईएएस बनना चाहती है और उसका यह सपना भवानीमंडी पुलिस पूरा करेगी। पुलिस ने बालिका की पढ़ाई का खर्चा उठाने की जिम्मेदारी ली है।घटोद (बुडनपुर) निवासी बच्ची कृष्णा मुरारी अपने पिता मदन बंजारा के साथ 9 वर्ष पूर्व 13 मई 2011 को झालावाड़ रोड स्थित छत्रपुरा में किसी शादी के कार्यक्रम में शामिल होने पहुंची थी। अपने भाई दिलीप (10) एवं बहन सीमा (8) के साथ खेलते-खेलते वहां से समीप में ही स्थित झालावाड़ रेलवे स्टेशन पर जा पहुंची एवं अपनी बुआ से मिलने के लिए पार्सल ट्रेन मे बैठकर रवाना हो गई। कोटा पहुंचकर जब तीनों बच्चे घबराए तो अनजाने में दिल्ली जा रही ट्रेन में बैठकर निजामुद्दीन जा पहुंचे, लेकिन दुर्भाग्यवश वापस लौटने पर 6 वर्षीय बालिका कृष्णा ट्रेन चलने के कारण दिल्ली स्टेशन पर ही रह गई। उसके दोनों भाई-बहन वहां से रवाना हो गए। माता-पिता की रिपोर्ट पर पुलिस दोनों बच्चों को तो मध्य प्रदेश के गुना से दस्तयाब कर ले आई। वहीं भाई दिलीप भी 8 दिन बाद वापस लौट आया, लेकिन 6 वर्षीय बालिका वापस नहीं लौट पाती। कृष्णा ने आंखों मे आंसू भरते हुए बताया कि जीआरपी पुलिस द्वारा 27 तारीख तक अपने पास रख माता-पिता के लौटने का इंतजार किया, लेकिन इनके नहीं आने पर हरियाणा राज्य के बहादुरगढ़ जिले में उमंग जगन्नाथ बाल आश्रम के सुपुर्द कर दिया।आश्रम ने दिलाई शिक्षाग्रामीण क्षेत्र की बालिका कृष्णा को पहली से आठवीं तक आश्रम समिति ने शिक्षा दिलाई। कृष्णा ने बताया कि आश्रम में जाने के बाद समिति ने बाल विकास सीनियर सैकंडरी स्कूल मे भर्ती करवा कर शिक्षा की जिम्मेदारी ली। शिक्षा में रुचि को देखते हुए आश्रम समिति द्वारा कृष्णा का इस दौरान विशेष ध्यान रखा गया। इस पर बालिका ने प्रत्येक कक्षा में ए ग्रेड से अंक प्राप्त किए एवं कक्षा 8वीं में 89 प्रतिशत अंक लाकर स्कूल टॉपर रही।मां-बाप ने आस छोड़ दी थी, लेकिन पुलिस ने मिलायाबालिका के पिता मदन बंजारा, माता कंचन बाई ने बताया कि 4 वर्ष तक ढूंढने पर भी बेटी नहीं मिली तो हमने उसके लौटने की आस छोड़ दी, लेकिन झज्जर ग्राम एएसआई राकेश कुमार, कोटा रेंज के डीआईजी रवि दत्त गौड़ की जुगलबंदी, डिप्टी गोपीचंद मीणा एवं थानाधिकारी महावीर सिंह यादव के ऑनलाइन सोशल एक्टिविटी पर रखी गई पैनी नजर के कारण बालिका 9 वर्ष बाद अपने मां-बाप के पास लौट आई।पुलिस ने ली शिक्षा की जिम्मेदारी आईएएस बनना चाहती है कृष्णाहरियाणा से वापस लौटी कृष्णा के जब प्रमाण पत्र देखे तो उसने प्रत्येक कक्षा में ए ग्रेड प्लस अंक देखकर थानाधिकारी महावीर यादव, डिप्टी गोपीचंद मीणा ने बालिका की शिक्षा की जिम्मेदारी उठाई। ताइक्वांडो में गोल्ड मेडलिस्ट एवं कई प्रमाण पत्र अपने नाम करा चुकी कृष्णा ने बताया कि वह खूब मेहनत कर आईएएस बनाना चाहती है। अपने गांव, समाज का नाम रोशन करना चाहती है। उसने बताया कि मां-बाप से बिछड़ने के बाद भी सारा ध्यान शिक्षा पर फोकस किया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें