पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महंगाई की मार:महंगे डीजल का असर हमारी रसोई पर; 120 रुपए किलो बिकने वाला सरसों का तेल 50 रुपए महंगा

झालावाड़20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ट्रांसपोर्टेशन व सामान की पैकिंग का खर्च 50% बढ़ा, 8 महीने में 70-80 रुपए/लीटर बढ़े भाव

काेराेना के साथ पेट्राेलियम पदार्थाें के भाव बढ़ने का असर हमारी रसाेई पर भी पड़ने लगा है। सबसे ज्यादा ताे खाद्य तेल महंगे होते जा रहे हैं। इससे हर वर्ग परेशान हाे रहा है। डीजल के दाम बढ़ने के कारण ट्रांसपोर्टेशन का महंगा होने व दूसरी तरफ पैकिंग के खर्च में बढ़ोतरी होने से इसका ज्यादा असर हाे रहा है।

आमजन का कहना है कि एक ताे काेराेना महामारी से वैसे ही परेशान है, अब सरसो, सोयाबीन और मूंगफली तेल के दाम बढ़ने से अामजन पर अाैर ज्यादा भार पड़ा है। हमारे यहां सोयाबीन और मूंगफली का तेल ज्यादा बिकता है। झालावाड़ जिले के व्यापारियों काे कोटा, इंदौर, उज्जैन व मंदसौर से सामान की सप्लाई होती है। सरसों का तेल इन दिनों 170 से 175 रुपए व मूंगफली का तेल 185 से 190 रुपए तक बिक रहा है। तेल के दाम बढ़ने से व्यापारी के साथ उपभोक्ताओं पर भी भार पड़ रहा है।

दो बड़े कारण जिनसे बढ़ रहे खाद्य तेलों के दाम

पैकेजिंग : स्थानीय व्यापारियों की तरफ से कोटा, इंदौर, मंदसौर के बड़े व्यापारियों से जब खाद्य तेलों के बढ़े दाम को लेकर बातचीत की तो सामने आया कि पैकेजिंग का खर्च महंगा होता जा रहा है। जो स्टील के खाली पीपे पहले 50 रुपए तक मिल रहे थे। अब वे 90 रुपए तक मिल रहे हैं। कच्चे माल के दाम बढ़ गए हैं। प्लास्टिक के दाम भी बढ़ गए है। इससे पैकेजिंग महंगी होने से तेल के दाम स्वत: बढ़ गए।

ट्रांसपोर्टेशन : लॉकडाउन में ट्रांसपोर्ट वाहन के जरिये सिर्फ आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई हो रही है। सामान्य दिनों में किराणा के साथ साथ कपड़ा, हार्डवेयर, इलेक्ट्रॉनिक व अन्य सामान भी आता था। अब सिर्फ किराणा सामान ही अधिक आ रहा है।

ऐसे में जिस सामान को पहले मंगवाने पर 100 रुपए का चार्ज लगता था, अब उसका 140 से 145 रुपए चार्ज लिया जा रहा है। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि डीजल के दाम में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। एक मई से अब तक 4.29 रुपए की बढ़ोतरी ने भी ट्रांसपोर्ट वाहन मालिक के होश उड़ा दिए हैं।

व्यापारी बोले: ट्रांसपोर्टेशन महंगा, पहली लहर में ~1450 दाम था, अब 2600 का टिन

व्यापारी आशीष जैन ने बताया कि सरसो तेल कोरोना की पहली लहर में 1450 रुपए में मिल रहा था। अब 2600 रुपए में मिल रहा है। यानी, एक किलो के दाम 170 से 175 रुपए तक पहुंच गए हैं। सोयाबीन तेल के दाम पहले 1500 रुपए थे जो बढ़कर अब 2500 से 2600 रुपए तक हो गए है।

ऐसे ही मूंगफली तेल के दाम पहले 1900 रुपए थे, अब 2800 से 2900 रुपए तक हो गया है। यानी 185 से 190 रुपए प्रति लीटर तक बिक रहा है। पैकेजिंग महंगे होने के साथ ट्रांसपोर्ट वाहन मालिकों ने सामान को लाने के चार्ज भी बढ़ा दिए हैं।

खबरें और भी हैं...