पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

गाइडलाइन में बदलाव:अब होटलों में क्वारेंटाइन नहीं होंगे कोरोना संक्रमित, घरों में ही किया जाएगा आइसोलेट

झालावाड़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अब इंजीनियरिंग कॉलेज को कोविड-19 सेंटर बनाया
  • घरों में अटैच लैट-बाथ वाले कमरे नहीं होने पर प्रशासन करेगा क्वारेंटाइन की व्यवस्था

चिकित्सा विभाग द्वारा अभी आगे भी कोरोना महामारी फैलने की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में आगे भी मरीज सामने आ सकते हैं, लेकिन अब मरीजों को होटलों में क्वारेंटाइन नहीं किया जाएगा। प्राथमिकता के आधार पर उनको घरों में ही क्वारेंटाइन किया जाएगा, लेकिन उसके लिए कुछ नियम निर्धारित किए गए हैं। घर में व्यवस्था नहीं होने पर प्रशासन उसकी व्यवस्था शैक्षणिक संस्थाओं में बनाए गए कोविड-19 सेंटर में क्वारेंटाइन करेगा।

मरीजों के क्वारेंटाइन के लिए सरकार ने अपनी गाइडलाइन में बदलाव किया है। सरकार अब आगे मरीजों का और खर्चा नहीं उठा सकती। इसके लिए अब होटल में क्वारेंटाइन बंद कर दिया गया है। होटल क्वारेंटाइन केवल डॉक्टरों के लिए रहेगा। अभी तक होटलों को अधिकृत कर कोविड-19 सेंटर बनाए गए थे, जहां मरीजों को भर्ती कर उनके खाने-पीने आदि की व्यवस्था की गई थी। इस पर एक मरीज पर 2440 रुपए तक खर्चा होना बताया जा रहा है, लेकिन आगे सरकार यह खर्चा नहीं उठा सकती। इसको लेकर सरकार ने गाइडलाइन में संशोधन कर दिया है। 

स्थानीय स्तर पर बनाए कोविड-19 सेंटर: पहले किसी भी कस्बे में मरीज कोरोना पॉजिटिव आते थे तो उनको झालावाड़ के एसआरजी अस्पताल में रखा जाता था। इसके बाद होटल में क्वारेंटाइन सेंटर बनाए गए। हालांकि कुछ जगह स्थानीय स्तर पर भी कोविड सेटरों में मरीजों को भर्ती किया गया, लेकिन अब होटल की बजाय स्थानीय स्तर पर बनाए गए कोविड सेंटर में ही मरीजों को भर्ती किया जाएगा।

इसके लिए झालरापाटन में इंजीनियरिंग कॉलेज, पिड़ावा में बीएड कॉलेज व हॉस्टल, मनोहरथाना में लोधा छात्रावास। इसी प्रकार भवानीमंडी, डग, चौमहला तथा अन्य कस्बों में भी प्रशासन ने शैक्षणिक संस्थाओं को अधिकृत कर कोविड सेंटर बनाए हैं, ताकि मरीज आने पर उनको स्थानीय स्तर पर भर्ती कर सकें। गत दिनों कलेक्टर ने भी इन कोविड सेंटरों का निरीक्षण किया था।

घर पर रखने पर यह शर्तें करनी होंगी पूरी: कोरोना मरीज को उनके घरों में ही क्वारेंटाइन किया जाएगा, लेकिन उसके लिए प्रशासन ने कुछ शर्तें रखी है। अगर परिजन इन शर्तों को पूरा करते हैं तो वे मरीज को घर पर क्वारेंटाइन करेगा। घर पर अलग से अटैच लैट-बाथ वाला कमरा हो, मरीज के लिए अलग से खाने-पीने और रहने की व्यवस्था हो।

साथ ही मरीज की देखभाल करने वाले परिजन को अंडरटेकिंग देनी होगी। अगर किसी के घर में अतिरिक्त कमरे नहीं हैं तो ऐसे मरीजों की व्यवस्था प्रशासन को करनी होगी। प्रशासन भी अब मरीजों को होटल की बजाय शैक्षणिक संस्थाओं में बनाए गए कोविड सेंटर पर रखेगा। 

मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर होटल में, स्टाफ हॉस्टल में क्वारेंटाइन: झालावाड़ मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों के पॉजिटिव होने या कोविड वार्ड में ड्यूटी करने के बाद उनको अधिकृत होटल में क्वारेंटाइन करवाया जा रहा है, लेकिन लैब टेक्नीशियन, नर्सिंगकर्मी व अन्य स्टाफ को मेडिकल कॉलेज के हॉस्टल में क्वारेंटाइन किया जा रहा है। अस्पताल प्रशासन का दावा है कि हॉस्टल में भी उनको पूरी सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें