पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सोमवती अमावस्या:इस साल की पहली सोमवती अमावस्या 12 अप्रैल को

झालावाड़10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

12 अप्रैल को साल की पहली सोमवती अमावस्या है। सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। ऐसा संयोग साल में 2 या कभी-कभी 3 बार भी बन जाता है। इस अमावस्या को हिन्दू धर्म में पर्व कहा गया है। इस दिन पूजा-पाठ, व्रत, स्नान और दान करने से कई यज्ञों का फल मिलता है। सोमवती अमावस्या पर तीर्थ स्नान करने से कभी खत्म नहीं होने वाला पुण्य मिलता है, लेकिन कोरोना महामारी के चलते घर पर ही पानी में गंगाजल की कुछ बूंदें मिलाकर नहाने से भी तीर्थ स्नान का फल मिलता है।

यह है परंपरा...सोमवती अमावस्या पर होती है पीपल के पेड़ की पूजा

पीपल के पेड़ में पितर और सभी देवों का वास होता है। इसलिए सोमवती अमावस्या के दिन जो दूध में पानी और काले तिल मिलाकर सुबह पीपल को चढ़ाते हैं। उन्हें पितृदोष से मुक्ति मिल जाती है। इसके बाद पीपल की पूजा और परिक्रमा करने से सभी देवता प्रसन्न होते हैं। ऐसा करने से हर तरह के पाप भी खत्म हो जाते हैं। ग्रंथों में बताया गया है कि पीपल की परिक्रमा करने से महिलाओं का सौभाग्य भी बढ़ता है। इसलिए शास्त्रों में इसे अश्वत्थ प्रदक्षिणा व्रत भी कहा गया है।

इस साल में सिर्फ दो बार ही सोमवती अमावस्या
12 अप्रैल को हिंदू कैलेंडर की पहली अमावस्या है। इस दिन सोमवार होने से साल का पहला सोमवती अमावस्या का संयोग बन रहा है। इसके बाद इस साल की दूसरी और आखिरी सोमवती अमावस्या 6 सितंबर को आएगी। सोमवती अमावस्या का शुभ संयोग हर साल में 2 या 3 बार ही बनता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें