पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मशरूम:मशरूम ऑयस्टर खेती का निरीक्षण कर फायदे बताए,मशरूम का आकार सीपनुमा होने के कारण इसे ऑयस्टर मशरूम भी कहते है

झालरापाटनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उद्यानिकी व वानिकी महाविद्यालय में मंगलवार को ऑयस्टर मशरूम खेती का निरीक्षण किया गया। इस दौरान डॉ. हनुमान सिंह व सहायक आचार्य द्वारा अंकित झाला, विशाल कश्यप, कपिल शर्मा के द्वारा अपने घर व राडी के बालाजी रोड पर उगाई गई ऑयस्टर मशरूम की खेती का निरीक्षण किया गया। इन्होंने बताया कि मशरूम का आकार सीपनुमा होने के कारण इसे ऑयस्टर मशरूम भी कहते है।

मशरूम का शीर्ष गोल-टोपीनुमा व छत्रक दंड से अलग नहीं होता बल्कि यह दंड ऊपर जाकर हथेली की तरह फैल जाता है। छत्रक की निचली सतह पर बारीक परतें पाई जाती है, जिनमें मशरूम के असंख्य बीजाणु होते है। ऑयस्टर मशरूम तेजी से वृद्धि करने वाली एवं अत्यंत स्वादिष्ट मशरूम है। यह तरह-तरह के स्वादिष्ट व्यंजन सब्जियां, सूप, पुलाव, पकोड़ा, पिज्जा एवं आचार आदि बनाए जाते है। खेती योग्य ऑयस्टर मशरूम की खेती आसानी से की जा सकती है।

इसको छाया में सुखाकर लंबे समय तक सुरक्षित रखा जा सकता है। ढींगरी मशरूम की खेती छायादार जगह या कमरों या झोपड़ियों में आसानी से की जा सकती है। डॉ. आईबी मौर्य ने बताया कि मशरूम की खेती के लिए खेत की आवश्यकता नहीं होती है, इसको कमरे या झोपड़ी में आसानी से लगाई जा सकती है। मशरूम की खेती बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध करवाती है। वहीं परिशोधित मशरूम निर्यात कर विदेशी मुद्रा भी कमाई जा सकती है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें