पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आक्राेश:कृष्णा वाल्मीकि हत्याकांड के विरोध में झालरापाटन और खानपुर रहे बंद

झालरापाटन20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
झालरापाटन बंद के दौरान बाजार में पसरा सन्नाटा। - Dainik Bhaskar
झालरापाटन बंद के दौरान बाजार में पसरा सन्नाटा।
  • झालरापाटन में तीन डीएसपी, 7 एसएचओ सहित 200 पुलिसकर्मी रहे तैनात

बीते दिनाें झालावाड़ स्थित हल्दीघाटी राेड पर रंजिश में जानलेवा हमले में घायल झालरापाटन निवासी युवक कृष्णा वाल्मीकि के उपचार के दाैरान दम ताेड़ने के बाद बुधवार काे यहां भारी पुलिस जाब्ते के बीच उसका अंतिम संस्कार किया गया। इधर, विभिन्न संगठनाें के आह्वान पर बुधवार को झालरापाटन और खानपुर पूर्णतया बंद रहे। झालरापाटन में दिन में कृष्णा का शव पहुंचे पर पुलिस ने लोगों को उसके घर के नजदीक जाने से रोक दिया तो वहां माैजूद लाेग आक्राेशित हाे गए। कृष्णा के अंतिम संस्कार के दाैरान झालरापाटन दिनभर पुलिस छावनी बना रहा। दोपहर में कृष्णा की अंतिम यात्रा निकाली, जिसमें बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।

इस दौरान जिला मुख्यालय सहित जिलेभर में आरोपियों को फांसी देने की मांग को लेकर ज्ञापन दिए गए।रवि से बदला लेने के लिए कृष्णा पर किया हमलारवि और सागर कुरैशी में वर्चस्व की लड़ाई थी। इनमें रंजिश चल रही है। 18 जून को रवि ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर सागर कुरैशी पर हमला किया था। मामले में पुलिस ने रवि और उसके साथियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इसके बाद से ही सागर कुरैशी अपने साथ हुई मारपीट का रवि से बदला लेना चाहता था, लेकिन उसके गिरफ्तार हाेने के बाद सागर ने अपने साथियाें के साथ रवि के साथी कृष्णा पर हमला कर दिया था।

7 बदमाश बेरहमी से हमला करते रहे, 8वां वीडियाे बनाता रहा

सागर ने रवि के दोस्त कृष्णा पर 1 जुलाई को अपने साथियों के साथ मिलकर जानलेवा हमला कर दिया। वारदात में कुल आठ बदमाश शामिल बताए गए हैं। इनमें से एक ने वीडियो बनाया, ताकि लोगों में दहशत बनाई जा सके। बाकी सात बदमाशों ने कृष्णा को सड़क पर पटक कर ताबड़तोड़ हमले किए। घायल कृष्णा काे एसआरजी अस्पताल लाया गया, जहां से कोटा और वहां से जयपुर रेफर कर दिया था। मंगलवार सुबह जयपुर में इलाज के दौरान कृष्णा ने दम ताेड़ दिया।जगह-जगह रोकी शव यात्राजयपुर में पोस्टमार्टम के बाद कृष्णा का शव बुधवार दोपहर 1 बजे झालरापाटन पहुंचा। शव के यहां पहुंचते ही बड़ी संख्या में भीड़ एकत्रित हो गई। पुलिस ने शहर की सीमाएं सील कर दी। बड़ी संख्या में लोग शव यात्रा में शामिल होना चाहते थे, लेकिन पुलिस उनको रोक रही थी। पुलिस ने शव यात्रा में 20 लोगों को ही शामिल होने की अनुमति दी थी, लेकिन फिर भी गलियों से हाेकर लोग शवयात्रा में शरीक हाे रहे थे। इस कारण जगह-जगह पर शव यात्रा रोकी गई।

अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए भाई शेखर आया जेल सेमृतक कृष्णा के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए उसका भाई शेखर अंतरिम बेल पर जेल से बाहर आया। अंतिम संस्कार में शामिल होने के बाद उसे वापस जेल भेज दिया गया।तीन डीएसपी व सात एसएचओं रहे तैनात: झालरापाटन शहर में एसडीएम के अलावा झालावाड़, अकलेरा व भवानीमंडी के डीएसपी माैजूद रहे। वे यहां हर गतिविधि पर नजर रखे हुए थे। इसके अलावा सात थानों के एसएचओ के साथ कोटा व झालावाड़ के 200 पुलिसकर्मी अलग-अलग स्थानाें पर तैनात रहे। इसी तरह खानपुर कस्बे में भी सीआई अनिल पांडे के नेतृत्व में पुलिस जाब्ता तैनात रहा। यहां एसडीएम रामकिशन मीणा ने भी कस्बे का जायजा लिया।

खबरें और भी हैं...