शादी की खुशियां में मौत का दर्द:नातिन के मौसाले में साड़ियां ओढ़ानी थी, बेटे के साथ बाइक से लेने लाखेरी जा रही महिला को ट्रैक्टर-ट्रॉली चालक कुचलकर फरार

लाखेरी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लाखेरी. सरकारी अस्पताल परिसर में पोस्टमार्टम कक्ष के बाहर परिजनों से कार्यवाही करते पुलिसकर्मी। - Dainik Bhaskar
लाखेरी. सरकारी अस्पताल परिसर में पोस्टमार्टम कक्ष के बाहर परिजनों से कार्यवाही करते पुलिसकर्मी।
  • खरायता गांव में हादसे से परिवार में काेहराम मचा

लाखेरी से 7 दिन दूर खरायता गांव के किसान राजाराम को क्या पता था कि जिस नातिन की शादी में उसकी पत्नी मन्नीबाई भाग-भाग कर तैयारी में लगी है, उसी तैयारी में घर से बाहर मौत उसका इंतजार कर रही है। मौसाला (मायरा) में देने के लिए जब कुछ साड़ियाें की कमी महसूस हुई तो मन्नीबाई अपने बेटे मस्तराम काे लेकर घर से बाइक पर लाखेरी के लिए रवाना हाे गई, जहां से जरूरी खरीदारी करके उसे लाैटने की जल्दी थी। अभी बाइक बस्ती से थोड़ी दूर ही निकली थी कि पीछे से आ रही बेकाबू ट्रैक्टर-ट्रॉली ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी।टक्कर लगते ही बाइक पर पीछे बैठी मन्नीबाई बेसुध हाेकर गिर गई, पलभर में ट्रैक्टर-ट्रॉली उसे कुचलती हुई निकल गई। बेटे की आंखाें के सामने मां की सांसें थम गई। हादसे में बेटे मस्तराम को चोटें आई है।

अचानक हुए इस घटनाक्रम से से गांव में कोहराम मच गया। हालात की गंभीरता और क्षेत्रवासियाें में उपज रहे आक्राेश काे देखकर ट्रैक्टर-ट्रॉली काे वहीं पर छाेड़कर चालक फरार हो गया, लेकिन मन्नीबाई के अरमान कुचल गया। राजाराम को इत्तला मिली तो बदहवास घटनास्थल पर दौड़ा, जहां पर हादसे का मंजर देख बेसुध हो गया।बाद में मन्नीबाई को लाखेरी अस्पताल लाए, जहां डाॅक्टर ने जांच करके मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने जरूरी कागजी कार्रवाई कर पोस्टमार्टम करवाया और शव परिजनों के सुपुर्द किया है। ट्रैक्टर-ट्रॉली काे पुलिस ने जब्त कर लिया। चालक की रात तक पहचान की जा रही थी।

अमरपुरा में सबको पहरावनी देने की थी ख्वाहिश

राजाराम की नातिन के मायरे में परिवार काे अमरपुरा जाना था। इसकी तैयारी को लेकर मन्नीबाई पिछले कुछ दिनों से पूरी खुशी के साथ लगी हुई थी। मायरे में कपड़ों की अधिकांश जरूरत पूरी हो रही थी, लेकिन मन्नीबाई की अपने सभी रिश्तेदारों की पहरावनी देने की ख्वाहिश थी। वह सभी रिश्तेदारों को खुश रखना चाहती थी। इसी के चलते कुछ साड़ियां लेने के लिए लाखेरी निकली थी।हालांकि उसके बेटे मस्तराम ने बाजार बंद होने की बात कही, लेकिन मन्नीबाई नहीं मानी और हादसे का शिकार हो गई। जिस परिवार में कुछ देर पहले शादी की तैयारी की खुशियां परवान चढ़ रही थी, पलभर में मौत का कोहराम मच गया। हर कोई हादसे को लेकर गमजदा हो गया।

हाइवे पर मासूम की मौत, भाई-साथी गंभीर घायल

इंद्रगढ़. कोटा-लालसोट हाइवे पर बुधवार देररात तेज स्पीड से आ रहे वाहन की टक्कर से एक मासूम की मौके पर ही मौत हो गई, वहीं उसका बड़ा भाई और साथी गंभीर घायल हो गए। बुधवार देररात बाइक से मानटाउन (सवाईमाधोपुर) निवासी 12 वर्षीय वकील बंजारा, इसका भाई सुल्तान बंजारा (23) और मोतीनगर निवासी रामधन बैरवा सवाईमाधोपुर से कोटा जा रहे थे। तभी मेगा हाइवे पर माताजी मंदिर रोड के पास तेजी से आए वाहन की टक्कर से वकील बंजारा की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना पर पुलिस ने आकर तीनों को इंद्रगढ़ सीएसची पहुंचाया, जहां मासूम के शव को मोर्चरी में रखवाकर परिजनों को सूचना दी। गुरुवार सुबह पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों के सुपुर्द किया। पुलिस ने अज्ञात वाहन के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू की है।

खबरें और भी हैं...