पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • 1100 M From Borkheda Tirahe To Agriculture University At A Cost Of 111 Crores. Work On Long Four lane Flyover Started

1 लाख लोगों को मिलेगा फायदा:111 करोड़ की लागत से बोरखेड़ा तिराहे से एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी तक 1100 मी. लंबे फोरलेन फ्लाईओवर का काम शुरू

कोटा2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बोरखेड़ा फ्लाईओवर का काम शुरू। - Dainik Bhaskar
बोरखेड़ा फ्लाईओवर का काम शुरू।
  • 24 पिलर पर बनेगा फ्लाईओवर, 18 महीने में पूरा होगा काम
  • देवली अरब और बारां रोड पर आए दिन लगने वाले जाम से मिलेगी राहत

बोरखेड़ा तिराहे से देवली अरब और बारां रोड पर बढ़ते ट्रैफिक के दबाव को कम करने के लिए फ्लाईओवर का काम शुरू हो गया है। यूआईटी द्वारा बाेरखेड़ा तिराहे से लेकर एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी तक 1100 मीटर का फ्लाईओवर बनाया जा रहा है, जिसकी लागत करीब 111 कराेड़ रुपए आएगी। अभी इसके लिए पिलर तैयार करने का काम शुरू हाे चुका है। यह 18 महीने में बनकर तैयार हाेगा। बारां राेड व देवली अरब राेड पर लगातार आवासीय काॅलाेनियाें का विस्तार हाे रहा है।

एक के बाद एक नई काॅलाेनियां विकसित हाेती जा रही हैं। मेन राेड हाेने के कारण बारां से आने-जाने वाला ट्रैफिक पहले से ही था और अब नई आबादी का ट्रैफिक भी बढ़ गया। ऐसे में बाेरखेड़ा से लेकर दाेनाें ही राेड पर ट्रैफिक का दबाव इतना अधिक हाे गया कि वहां पर जाम लगने लगा। इस स्थिति काे देखते हुए यूडीएच मंत्री शांति धारीवाले ने यहां पर फ्लाईओवर बनाने का प्राेजेक्ट तैयार करने के लिए यूआईटी के अधिकारियाें काे कहा था।

उसके बाद यूआईटी ने यहां पर 1100 मीटर के हिस्से काे कवर करते हुए फाेरलेन फ्लाईओवर बनाने की डीपीआर तैयार करवा्ई। यूआईटी द्वारा अपने खर्च पर इसकाे बनाने की स्वीकृति देने के बाद अब इसका कार्य शुरू हाे गया। इसमें 24 पिलर बनेंगे और ये रेलवे लाइन काे पार करता हुआ एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी तक जाएगा।

100 से अधिक कॉलोनियों का रास्ता आसान होगा

इस फ्लाईओवर के बनने के बाद देवलीअरब और बारां आने-जाने वालाें काे लाभ मिलेगा ही। साथ ही, इन दाेनाें इलाकाें में बसी करीब 100 से अधिक काॅलाेनियाें के एक लाख लाेगाें काे भी राेज आने-जाने में ट्रैफिक जाम से मुक्ति मिलेगी। इसके अलावा एक बड़ा लाभ यह हाेगा कि नहर वाली साइड पर जहां सड़क काफी संकरी हाे जाती है और बाॅटलनेक जैसी स्थिति हाे जाती है, उससे भी मुक्ति मिल जाएगी। जिससे उस जगह भारी ट्रैफिक से हाेने वाली दुर्घटना और जाम जैसी समस्या से भी निजात मिल सकेगी।

देवली अरब राेड व बारां राेड पर बढ़ते ट्रैफिक के दबाव काे कम करने के लिए फ्लाईओवर बनाया जा रहा है। इसका काम शुरू कर दिया गया है और तेजी से काम चल रहा है। डेडलाइन 18 महीने रखी है, लेकिन हम इसे उससे पहले ही पूरा कर लेंगे।

- राजेश जाेशी, सचिव, यूआईटी

खबरें और भी हैं...