22 अक्टूबर से आवेदन:दुनिया के नामी 50 विवि में पढ़ाई कर सकेंगे 200 स्टूडेंट्स, राज्य सरकार वहन करेगी खर्चा

कोटा18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सांकेतिक तस्‍वीर। - Dainik Bhaskar
सांकेतिक तस्‍वीर।

राज्य सरकार प्रदेश के 200 मेधावी स्टूडेंट्स को विदेश की चुनिंदा 50 संस्थानों में उच्च अध्ययन की सुविधा मुहैया कराएगी। इसके लिए इसी सेशन से राजीव गांधी स्कॉलरशिप फॉर एकेडमिक एक्सीलेंस (आरजीएस) योजना शुरू की है। इसके लिए 22 अक्टूबर से आवेदन किए जा सकेंगे। उच्च शिक्षा राज्य मंत्री भंवरसिंह भाटी ने इस याेजना काे लेकर बताया है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जयंती पर 20 अगस्त को इस योजना की घोषणा की थी। विभाग ने नियम बनाकर इसी सेशन से इस योजना को लागू कर 22 अक्टूबर से आवेदन आमंत्रित किए हैं।

उन्होंने बताया कि इसके तहत ऑक्सफोर्ड, हाॅवर्ड एवं स्टेनफोर्ड विश्वविद्यालय जैसी दुनिया की नामचीन 50 संस्थानों से स्नातक, स्नातकोत्तर, पीएचडी एवं पोस्ट डॉक्टोरल स्तर पर अध्ययन के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। स्टूडेंट्स के यात्रा किराया, ट्यूशन फीस सहित सम्पूर्ण खर्चा राज्य सरकार वहन करेगी।

30 फीसदी अवाॅर्ड छात्राओं के लिए चिह्नित:

शिक्षा राज्य मंत्री भाटी के अनुसार स्नातक स्तर के पाठ्यक्रमों के लिए केवल मानविकी से संबंधित विषयों के अध्ययन के लिए ही छात्रवृृत्ति प्रदान की जाएगी। हर साल 200 मेधावी स्टूडेंट्स में से 30 फीसदी अवाॅर्ड छात्राओं के लिए चिह्नित रखते हुए 60 छात्राओं को अध्ययन सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि छात्रवृृत्ति के लिए आवेदन करने से पूर्व आवेदकों का संबंधित विदेशी संस्थानों में प्रवेश होना जरूरी है।

इन विषयों में मिलेगी स्कॉलरशिप:

कॉलेज शिक्षा के आयुक्त संदेश नायक ने योजना के तहत आने वाले विषयों और उनसे संबंधित अवार्ड की जानकारी देते हुए बताया कि ह्यूमैनिटीज, सोशल साइंस, एग्रीकल्चर एंड फॉरेस्ट साइंस, नेचर एंड एनवायरमेंटल साइंस एवं लॉ के लिए 150, मैनेजमेंट एंड बिजनस एडमिनिस्ट्रेशन एवं इकोनॉमिक्स एंड फाइनेंस के लिए 25 और प्याेर साइंस एवं पब्लिक हैल्थ विषयों के लिए 25 स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...