पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना राहत:घर पर रहकर ही ठीक हाे गए कोटा के 70% काेराेना रोगी, हल्के लक्षण दिखें भी ताे घबराएं नहीं

कोटा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 23 हजार लोग हाेम अाइसाेलेशन में ही स्वस्थ हुए, पिछले साल ज्यादातर मरीजाें ने घर पर लिया इलाज

हेल्थ रिपाेर्टर | काेटा में 70 प्रतिशत काेराेना राेगियाें ने घर पर रहकर ही काेराेना काे मात दे दी। ये 23 हजार मरीज ऐसे हैं, जिन्हाेंने रिपाेर्ट पाॅजिटिव आने पर डाॅक्टराें की सलाह से दवाइयां ली और खुद काे घर में दूसराें से अलग करते हुए आइसाेलेट कर लिया। सेकंड वेव के मुकाबले पहली वेव में ऐसे मरीजाें की संख्या ज्यादा थी। भास्कर ने कोरोना की शुरुआत से लेकर 26 अप्रैल तक के आकड़ाें का एनालिसिस किया ताे सामने आया कि इस दिन तक काेटा में 38899 राेगी संक्रमित हुए, इनमें से 29954 रिकवर हाे चुके थे। इनमें से 23 हजार लोगों ने होम आइसोलेशन में रहकर इलाज लिया और 6954 मरीजों को एडमिट होना पड़ा। इनमें करीब 1 हजार मरीज ऐसे हैं, जो शुरुआत सरकार की गाइडलाइन के तहत जबरन भर्ती किए गए थे।

कब किया जाता है होम आइसोलेशन?

मेडिकल कॉलेज में मेडिसिन विभाग के एसाेसिएट प्रोफेसर डॉ. पंकज जैन के मुताबिक, इसे लेकर सरकार की गाइडलाइन निर्धारित है। ऐसे मरीज, जो एसिम्प्टोमेटिक हैं और उन्हें किसी तरह का कॉम्पलिकेशन नहीं है, उन्हें होम आइसोलेट किया जा रहा है। पूर्व में ऐसे रोगियों के घरों पर एक सूचना चस्पा की जाती थी कि इस घर में कोविड पॉजिटिव मरीज है, लेकिन अब नहीं की जाती। ऐसे मरीजों को संबंधित डिस्पेंसरी की टीम घर जाकर जरूरी दवाइयां देती है और उनकी मॉनिटरिंग की जाती है। ऐसे मरीजों को हम यही सलाह देते हैं कि वे लगातार अपना ऑक्सीजन लेवल चेक करते रहें, हेल्दी फूड खाएं और पर्याप्त पानी पीएं। कोई समस्या होने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

अस्पताल अंतिम विकल्प हाे, घर में रहकर ठीक हो गया : डॉ. साकेत

16 जून काे अस्पताल जाने को तैयार होते वक्त बुख़ार और गले में ख़राश का अहसास हुआ। तुरंत आइसोलेट हो गया। लगा मामूली बुखार है, लेकिन अगले दिन बुखार बढ़ गया। इस पर काेविड सैंपल दे दिया। इसी बीच मेरे पिता ने कोरोना की दवाइयां शुरू कर दी। अगले दिन सुबह एक साथ डाॅक्टराें, थाने, सीएमएचओ आफिस, सीआईडी से फाेन आने लगे और उन्हाेंने बताया कि आपकी रिपाेर्ट पाॅजिटिव है। उस वक्त मुझे सबसे ज्यादा चिंता यह थी कि परिवार ताे संक्रमित नहीं हाे गया? घर में आइसाेलेशन की व्यवस्था हाेने के बावजूद कुछ घंटाें के लिए मुझे अस्पताल रहना पड़ा, जब गाइडलाइन पर विस्तृत चर्चा हुई ताे मुझे घर भेज दिया गया। घर पर रहने से पौष्टिक भोजन भी मिल रहा था और घरेलू माहौल भी। कुछ दिन बाद रिपाेर्ट निगेटिव आ गई। इस बीमारी में अस्पताल में भर्ती हाेना अंतिम विकल्प हाेना चाहिए, क्याेंकि घर जैसा वातावरण, पाैष्टिक भाेजन और सबके साथ हाेने का अहसास वहां नहीं मिल सकता।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें