पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • 84.9% Do Not Cover Their Mouth While Coughing, Women Are More Intelligent In Coughing Pattern, Research Done On 696 People Including 315 Women And 381 Men

हमारी आदतों से फैलती है बीमारी:84.9% खांसते वक्त मुंह नहीं ढकते, कफिंग पैटर्न में महिलाएं ज्यादा समझदार, 315 महिलाओं और 381 पुरुषों सहित 696 लोगों पर की गई रिसर्च

काेटा24 दिन पहलेलेखक: आशीष जैन
  • कॉपी लिंक
भास्कर ने इसे लेकर दुनियाभर में हुई रिसर्च का अध्ययन किया तो सामने आया कि अमेरिका में ड्राॅपलेट्स या एयरबॉर्न डिजीज वहां की इकोनॉमानी पर 10.4 बिलियन डॉलर का भार डालती है। - Dainik Bhaskar
भास्कर ने इसे लेकर दुनियाभर में हुई रिसर्च का अध्ययन किया तो सामने आया कि अमेरिका में ड्राॅपलेट्स या एयरबॉर्न डिजीज वहां की इकोनॉमानी पर 10.4 बिलियन डॉलर का भार डालती है।
  • 20.95% महिलाओं के मुकाबले 9.44% पुरुष ही खांसते वक्त मुंह ढकते हैं, सही तरीका सिर्फ 15.8% लोग अपनाते हैं
  • पहले स्वाइन फ्लू और अब कोविड के बाद यह अहम हो गया कि छींकने-खांसने का सही तरीका क्या हो? कफिंग पैटर्न को लेकर पहली बार की गई स्टडी

ड्राॅपलेट्स या एयरबाॅर्न इंफेक्शन से बीमारियां फैलाना हमारी आदताें में शुमार है, क्योंकि लोग खांसते या छींकते वक्त मुंह काे ठीक से कवर नहीं करते हैं। पहले स्वाइन फ्लू और अब काेविड ने यह बता दिया है कि हमें कफिंग पैटर्न (खांसने का तरीका) बदलना ही हाेगा। भास्कर ने इसे लेकर दुनियाभर में हुई रिसर्च का अध्ययन किया तो सामने आया कि अमेरिका में ड्राॅपलेट्स या एयरबॉर्न डिजीज वहां की इकोनॉमानी पर 10.4 बिलियन डॉलर का भार डालती है।

भारत में इसके इकोनॉमिक बर्डन पर अलग से कोई स्टडी नहीं हुई, लेकिन कोटा मेडिकल कॉलेज में इस मुद्दे पर पहली बार एक अलग तरह की स्टडी हुई है, जिसे इंडियन एकेडमी ऑफ क्लिनिकल मेडिसिन जर्नल ने प्रकाशित किया है। डॉक्टरों ने एक साल तक ओपीडी में 696 मरीजों का कफिंग पैटर्न समझा, जिनमें 315 महिलाएं व 381 पुरुष थे।

इनमें से 15.08% ने खांसते वक्त रुमाल से मुंह कवर किया था। बाकी 43.1% हाथों से मुंह ढक रहे थे और 41.8% ने मुंह कवर ही नहीं किया। ठीक से मुंह ढकने वालों में 9.44% पुरुषों के मुकाबले 20.95% महिलाएं ज्यादा समझदार थीं। पढ़े लिखे और अनपढ़ लोगों के कफिंग पैटर्न में बड़ा फर्क नहीं था। 84.9% लोग कफिंग पैटर्न बदलने को तैयार नहीं हैं।

30 साल तक के 37% ने कवर नहीं किया मुंह, 60 से ज्यादा वाले 50% थे

अनपढ़ और पढ़े-लिखों में मात्र 10% का फर्क

46.45% पुरुषों ने तो मुंह ढका ही नहीं

अवेयरनेस

कफिंग पैटर्न की आदर्श स्थिति

1. घर से निकलें तो रूमाल या टिश्यू साथ रखें। इसे आदत बनाएं। खांसते या छींकते वक्त मुंह व नाक अच्छे से कवर करें। 2. कोविड में मास्क लगाने की सलाह दी जा रही है, लेकिन पोस्ट कोविड दौर में भी यह आदत अपनानी होगी। 3. सरकारें इसे प्राथमिकता से लें और प्रयास करें कि बच्चों को स्कूल में कफिंग करते वक्त हाइजीन मेंटेन के बारे में बताएं।

उम्र-शिक्षा, व्यवहार को 3 भागों में बांट की स्टडी

डॉक्टरों ने एक साल तक ओपीडी में लोगों को देखा कि खांसते वक्त मुंह पर कपड़ा लगाया, हाथ से मुंह कवर किया या खुले में खांस दिया। डॉक्टरों ने मरीज की उम्र, लिंग और शैक्षणिक आधार पर अलग-अलग भागों में बांटकर ये स्टडी की।

भास्कर एक्सपर्ट: डॉक्टर्स की टीम, जिसने यह स्टडी की : मेडिसिन विभाग के सीनियर प्रोफेसर डॉ. मनोज सालूजा, असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. सौरभ चित्तौड़ा, रेजीडेंट डॉ. विश्वास गालव, दृश्या पिल्लई और सिद्धार्थ शर्मा।