• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • After Getting Down At Kota Station, Walked On 400 Meter Track, Committed Suicide By Coming In Front Of The Train, The Young Man's Body Was Broken Into Pieces. Kota Rajasthan

यूनिवर्सिटी के काम से आए थे मौसेरे भाई बहिन:कोटा स्टेशन पर उतरकर 400 मीटर ट्रेक पर पैदल गए, ट्रेन के सामने आकर सुसाइड किया

कोटा4 महीने पहले
रेलवे ट्रेक पर युवती व युवक के शव मिलने के मामले में सुसाइड की जानकारी सामने आई है। - Dainik Bhaskar
रेलवे ट्रेक पर युवती व युवक के शव मिलने के मामले में सुसाइड की जानकारी सामने आई है।

शहर के भीमगंजमंडी थाना क्षेत्र में देर रात रेलवे ट्रेक पर युवती व युवक के शव मिलने के मामले में सुसाइड की जानकारी सामने आई है। क्योंकि उनकी मौत कोटा से जाने वाली ट्रेन से टकराकर हुई है। बताया जा रहा है कि दोनों कोटा स्टेशन पर उतरकर वापस गुड़ला की तरफ 400 मीटर तक पैदल ही गए थे। कोटा से सवाईमाधोपुर की ओर जाने वाली ट्रेन की चपेट में आने से दोनों की मौत हुई। हादसे में युवक के शव के टुकड़े टुकड़े हो गए। जबकि युवती के सिर पर गभीर चोट लगी।

मौत बनी पहेली

फिलहाल अभी ये पहेली बनी हुई है कि कोटा स्टेशन पर उतरकर दोनों वापस गुड़ला की तरफ पैदल क्यों जा रहे थे। क्या वो सुसाइड के इरादे से ही ट्रेक पर पैदल निकले थे? सुसाइड करने के पीछे क्या कारण रहे? इस सवालों के जवाब आने बाकी है। प्रारंभिक जांच में पुलिस इसे सुसाइड मान रही है। हालांकि परिजनों की ओर से अभी तक शिकायत नहीं दी गई।

यूनिवर्सिटी के काम से आ रहे थे कोटा

दोनों युवक-युवती आपस में मौसेरे भाई बहिन है। दोनों की आपस मे सगी बहिन है। मृतक अजय बड़ी बहिन का इकलौता बेटा था। जबकि अर्चना छोटी बहिन की तीन बेटियों में सबसे बड़ी थी। अर्चना सेकंड ईयर की छात्रा थी।अजय फाइनल ईयर का स्टूडेंट था। बताया जा रहा है कि अर्चना का यूनिवर्सिटी में रिजल्ट रुका हुआ था। रिजल्ट मंगवाने के लिए उसने रविवार को कोटा में अपने रिशेतदार अवधेश से सम्पर्क किया था। अवधेश जवाहर नगर थाने में कांस्टेबल है। जिसके बाद अर्चना अपने मौसेरे भाई अजय के साथ सवाई माधोपुर से कोटा के लिए रवाना हुई। दोनों जयपुर-चेन्नई ट्रेन में बैठकर कोटा आ रहे थे।

परिजन बोले सुसाइड जैसी बात नही, ये एक्सीडेंट

मृतकों के मामा मनराज मीणा का कहना है कि दोनों पहली बार ट्रेन से कोटा आ रहे थे। रात के समय ट्रेन आउटर पर रुकी होगी। उनको पता नहीं होगा स्टेशन आ गया। इसके बाद वो पैदल की ट्रेक पर चल रहे होंगे। रात को कोहरा ज्यादा था ट्रेन की चपेट में आ गए। और दोनों की मौत हो गई। सुसाइड जैसी कोई बात नहीं।

भीमगंजमंडी थाना एएसआई अब्दुल हक ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को शव सौंप दिया है। शुरुआती जांच में सामने आया है कि कोटा से माधोपुर की ओर जाने वाली ट्रेन की चपेट में आने से उनकी मौत हुई है। जिस जगह शव मिले वहां से स्टेशन से की दूरी 400 मीटर है। युवक के शव के कई टुकड़े हुए है। ये सुसाइड जैसा लग रहा है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद ही स्थिति साफ हो पाएगी।