• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • After The Action, The ACB Got The Victim Woman Made A Lease, Had Demanded A Bribe Of 12 Thousand In Return For Making The Lease.

पट्‌टे के लिए विधवा से घूस लेते संविदाकर्मी गिरफ्तार:एसीबी ने कार्रवाई के बाद पीड़ित महिला काे पट्‌टा बनवाकर दिया, पट्टे बनाने की एवज में 12 हजार की घूस मांगी थी

कोटा20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी नरेंद्र निर्भीक। - Dainik Bhaskar
आरोपी नरेंद्र निर्भीक।

कोटा देहात एसीबी ने नगर-निगम कोटा के संविदा कर्मी, ई-मित्र संचालक को 9 हजार की घूस लेते ट्रैप किया है। संविदा कर्मी नरेंद्र निर्भीक ने पट्टे बनाने की एवज में 12 हजार की घूस मांगी थी। सौदा 9 हजार में तय हुआ था। घूस की रकम 9 हजार को संविदाकर्मी निर्भीक नगर निगम की छत पर ले रहा था, जहां से एसीबी ने उसे रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।

इधर, एसीबी ने पीड़िता का काम न रुके इसके लिए शुक्रवार को ही उसे उसके मकान का पट्टा बनवाकर अधिकारियों के हाथों दिलवाया है। कोटा देहात एसीबी एएसपी प्रेरणा शेखावत ने बताया कि परिवादी राधा निवासी कोटड़ी ने पट्टे के लिए नगर निगम कोटा दक्षिण में आवेदन किया था। उन्होंने नगर निगम कोटा में कम्प्यूटर ऑपरेटर नरेन्द्र निर्भीक से सम्पर्क किया। उसने पट्टा बनवाने की एवज में 12 हजार रुपए मांगे। 5 जनवरी को राधा ने एसीबी में शिकायत दी।

इस पर सत्यापन करवाया तो आरोपी द्वारा 10 हजार की मांग की और 9 हजार में सौदा तय हुआ। शुक्रवार को आरोपी नरेन्द्र निर्भीक ने नगर निगम के तीसरे माले पर राधा से पट्टा जारी करवाने की एवज में 9 हजार रुपए रिश्वत ली। रिश्वत राशि आरोपी के कब्जे से बरामद हुई है।

मुझे रात आठ बजे बाद भी फोन कर रुपए लेकर बुलाता था आरोपी नरेन्द्र
जैसा कि पीड़िता राधा ने भास्कर को बताया
मेरे पति की मौत हो चुकी है। मैं पट्‌टा बनवाने के लिए 2 माह से निगम के चक्कर काट रही हूं। निगम में अधिकारी रविन्द्र गोस्वामी ने मेरा परिचय नरेन्द्र निर्भीक से करवाया। मैंने पट्‌टे की कार्रवाई के लिए पहले उनको 1 हजार रुपए दिए, जिसमें 500 रुपए कागजों के जायज थे। उसके बाद वो मुझसे लगातार पैसों की डिमांड कर रहे थे। रात को 8 बजे बाद भी मुझे मिलने बुलाते थे, लेकिन मैं मना कर देती थी।

वह बार बार निगम के चक्कर कटवा रहे थे। परेशान होकर मैं एसीबी के पास गई और उनको शिकायत दी। अधिकारियों की भूमिका की कर रहे है जांच : एसीबी : एसीबी एएसपी प्रेरणा शेखावत ने बताया कि ठेकेदार अमित सैन, कनिष्ठ सहायक रविन्द्र गोस्वामी और अन्य अधिकारियों को पूछताछ के लिए बुलाया है। मामले में जिनकी संदिग्ध भूमिका है, उनकी जांच की जा रही है। फिलहाल आरोपी नहीं बनाया गया है। कोटा एसीबी ने बारां नगर परिषद में दस्तावेज खंगाले।

खबरें और भी हैं...