ऑक्सीजन का संकट:एंबुलेंस व नॉन कोविड अस्पतालों को नहीं मिल रही ऑक्सीजन, घर के लिए भी संकट

काेटा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ऑक्सीजन की मारामारी के बीच ही अब अस्पतालाें में भर्ती मरीजाें के अलावा दूसरी समस्याएं शुरू हाे गई हैं। नाॅन काेविड हाॅस्पिटलाें काे ऑक्सीजन नहीं देने से वहां के क्रिटिकल मरीजाें पर संकट आ गया है। पिछले 5 दिन से एंबुलेंसाें काे सिलेंडर नहीं दिए जा रहे हैं।

अस्पतालाें में बेड नहीं मिलने पर लाेग घर के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर लेने पहुंच रहे हैं, लेकिन उनमें से भी ज्यादातर काे निराशा हाथ लग रही है। बुधवार शाम काे प्राइवेट सेक्टर के डाॅक्टर कलेक्टर के पास पहुंच गए और नाॅन काेविड हाॅस्पिटलाें काे ऑक्सीजन देने की मांग की। एंबुलेंस संचालक सभी स्तर पर बात करके थक-हारकर बैठे हैं। रोगियों को भी सिलेंडर के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है।

कलेक्टर के पास पहुंचे नॉन कोविड हॉस्पिटलों के संचालक
आईएमए कोटा ने बुधवार को नॉन कोविड अस्पताल व नर्सिंग होम में गंभीर मरीजों के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति बहाल करने के लिए कलेक्टर को ज्ञापन दिया। अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने बताया कि अधिकांश ऑक्सीजन की सप्लाई कोविड अस्पताल में की जा रही है। लेकिन अन्य रोगियों को भी नियमित रूप से इलाज की

सभी को सिलेंडर दिए तो कोविड हॉस्पिटलों में मैनेजमेंट मुश्किल आवश्यकता है।

भास्कर ने कलेक्टर उज्जवल राठौड़ से बात की तो उन्होंने कहा कि एंबुलेंस को कुछ सिलेंडर रोजाना दिलवाने की व्यवस्था करेंगे। नॉन कोविड हॉस्पिटलों को भी देने का प्रयास कर सकते हैं। घर के लिए भी रोजाना करीब 150-200 सिलेंडर दे रहे हैं। सभी को पर्याप्त सिलेंडर दे दिए तो कोविड हॉस्पिटलों में रात निकालना मुश्किल हो सकता है।

खबरें और भी हैं...