पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तीसरी लहर के लिए तैयारी:मासूमों के लिए 500 बेड और 164 वेंटिलेटर की व्यवस्था की

काेटा19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जेकेलाेन, एसएसबी और नए अस्पताल में बच्चाें के लिए रहेंगे वार्ड, नाॅन काेविड के लिए 121 बेड रिजर्व

काेराेना की दूसरी लहर कमजाेर हाेने के साथ ही तीसरी लहर की आहट ने वापस चिंता बढ़ा दी है। थर्ड वेव के बच्चाें के लिहाज से खतरनाक हाेने की चेतावनी काे देखते हुए दैनिक भास्कर ने माैजूदा संसाधनाें की कमी काे लेकर पहले ही चेता दिया था। उसे देखते हुए मेडिकल काॅलेज प्रशासन ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं।

फिलहाल बच्चाें के लिए जेकेलाेन हाॅस्पिटल, न्यू मेडिकल कॉलेज हाॅस्पिटल व सुपर स्पेशियलिटी विंग में 500 बेड की व्यवस्था कर ली गई है। साथ ही 164 वेंटिलेटर की व्यवस्था की गई है। वाॅर्मर सहित अन्य उपकरण भी जुटाए जा रहे हैं। जेकेलाेन हाॅस्पिटल में बन रही 156 बेड की नई बिल्डिंग अलग से है, उसके सितंबर-अक्टूबर तक पूरा हाेने की संभावना है।

यदि थर्ड वेव उससे पहले आती है ताे 500 बेड रहेंगे और उसके बाद आती है ताे 156 बेड और मिल जाएंगे। वर्तमान में बच्चाें के लिए जेकेलाेन हाॅस्पिटल के शिशुराेग विभाग में 221 ही बेड की व्यवस्था है। हालांकि जिले में 5 लाख बच्चे हैं और एक्सपर्ट के अनुसार इनके लिए 1 हजार बेड की जरूरत पड़ेगी। जिसे ध्यान में रखते हुए प्राइवेट सेक्टर के हाॅस्पिटलाें काे भी रिजर्व में रखा है।

वयस्काें के लिए 500 बेड रहेंगे

काेविड केवल बच्चाें तक ही सीमित नहीं रहेगा, इस दाैरान यदि वयस्क भी इसकी चपेट में आते हैं ताे मेडिकल काॅलेज प्रशासन द्वारा एनएमसीएच और सुपर स्पेशियलिटी विंग में उनके लिए व्यवस्था कर रखी है। अभी इन दाेनाें की क्षमता 900 बेड की हाे गई है। इसमें से दाेनाें में 500 बेड की व्यवस्था वयस्काें के लिए रहेगी। इसके अलावा एमबीएस हाॅस्पिटल रिजर्व में रहेगा।

बिल्डिंग शुरू हाेने से पहले खरीदे जाएंगे उपकरण

बच्चाें लिए जितने बेड बढ़ाए जाएंगे, उतने ही उपकरणाें की जरूरत भी हाेगी। इसके लिए मेडिकल काॅलेज प्रशासन ने जेकेलाेन में बन रही 156 बेड की नई बिल्डिंग के उपकरण की खरीद प्रक्रिया शुरू कर दी है। अभी बच्चाें के लिए मात्र 35 ही वेंटिलेटर हैं। अब 10 नए वेंटिलेटर और खरीदे जा रहे हैं। इसके अलावा पीएम केयर्स फंड से आए 119 वेंटिलेटर बच्चाें के इस्तेमाल के लायक बनाए जाएंगे। इस तरह से 164 वेंटिलेटर हाे जाएंगे।

अब हर बेड तक पहुंचेगी ऑक्सीजन

थर्ड वेव काे लेकर हम पूरी तरह से तैयार है। मैंने दाेनाें हाॅस्पिटल में दाैरा भी इसी काे लेकर किया था। ऑक्सीजन में हम आत्मनिर्भर हाे रहे हैं। अब सिलेंडर से नहीं बल्कि हर बेड तक ऑक्सीजन पहुंचेगी। बच्चाें के हिसाब से 156 बेड की नई बिल्डिंग बन रही है। उसके अलावा मेडिकल काॅलेज प्रशासन द्वारा एक्स्ट्रा बेड की व्यवस्था भी की जा रही है।
-शांति धारीवाल, यूडीएच मंत्री

काेराेना की तीसरी लहर काे देखते हुए हमने 500 बेड की व्यवस्था कर ली है। वेंटिलेटर पर्याप्त हैं, शेष उपकरणाें के लिए भी शाॅर्ट टर्म एनआईटी लगाई जा रही है। एक माह के भीतर वे उपकरण भी आ जाएंगे। इसके अलावा वयस्क और सामान्य राेग वाले बच्चाें के लिए भी रिजर्व बेड रखे गए हैं।
- डाॅ. विजय सरदाना, प्रिंसिपल, मेडिकल काॅलेज

4 हाॅस्पिटल में इस तरह से हाेगी काेविड बेड की व्यवस्था
4 हाॅस्पिटल में इस तरह से हाेगी काेविड बेड की व्यवस्था
खबरें और भी हैं...