• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • BJP MLAs Gave A Fund Of 10 Lakhs, Zilla Parishad CO Formed A Committee To Investigate The Fault Of The Vehicle Kota Rajasthan

विधायक कोष से आएगी जिला प्रमुख की नई गाड़ी!:BJP विधायकों ने 10-10 लाख का फंड दिया, गाड़ी खराबी की जांच के लिए कमेटी बनाई

कोटा4 महीने पहले
BJP विधायकों के MLA फंड से जिला प्रमुख के लिए नई गाड़ी की व्यवस्था होगी।

कोटा के नवनिर्वाचित जिला प्रमुख के लिए नई गाड़ी की व्यवस्था नहीं होने का मामले में नया मोड़ आ गया है। अब BJP विधायकों के MLA फंड से जिला प्रमुख के लिए नई गाड़ी की व्यवस्था होगी। रामगंजमंडी से विधायक मदन दिलावर व कोटा दक्षिण विधायक संदीप शर्मा ने MLA फंड से 10-10 लाख रुपए का बजट देने की घोषणा की है। इधर जिला परिषद सीओ ने जिला प्रमुख द्वारा डिमांड करने पर नई गाड़ी की स्वीकृति के लिए राज्य सरकार को लिखा है। साथ ही जिला प्रमुख की खराब हुई गाड़ी की जांच के लिए 5 सदस्य कमेटी को जांच सौंपी है।

दरअसल जिला प्रमुख मुकेश मेघवाल ने पुरानी गाड़ी खराब होने का हवाला देते हुए नई गाड़ी की डिमांड की थी। जिला प्रमुख का कहना था कि पुरानी गाड़ी बार बार खराब हो रही है। एक बार रात के समय ब्रेक फेल होने से एक्सीडेंट होते होते बचा। इसके बाद जिला प्रमुख सरकारी गाड़ी के बजाय खुद की बाइक से ही जिला परिषद कार्यालय आए।

इधर जिला परिषद सीओ को ममता तिवाड़ी का कहना है कि गाड़ी का ऐसा कोई इश्यू नहीं है। पूर्व में जो गाड़ी थी, उसे ठीक करवाकर जिला प्रमुख को सुपुर्द किया था। उस गाड़ी में खराबी बताने पर अनुबंध की दूसरी गाड़ी लगा दी गई। नई गाड़ी की स्वीकृति के लिए प्रकरण बनाकर राज्य सरकार को भेजा है। अब रामगंज मंडी विधायक की तरफ से 10 लाख की अनुशंसा मिली है। उसे राज्य सरकार को भिजवाया गया है। जहां तक गाड़ी के ब्रेक फेल होने की बात है,उसकी जांच के लिए 5 सदस्य कमेटी बनाई है,जो भी कार्य करवाया गया है उसकी गुणवत्ता की जांच हो जाएगी,साथ में कोई तकनीकी खामी हुई तो उसका भी पता लग जाएगा।

विधायक संदीप शर्मा का कहना है कि कोटा में BJP का जिला प्रमुख बना है। इसलिए सरकार से उम्मीद नहीं है कि वो नई गाड़ी जिला प्रमुख को देंगे। जिला प्रमुख को पंचायतों व गांवों में जाना पड़ता है। इसलिए गाड़ी जरूरी है। पुरानी गाड़ी कंडम हो चुकी थी। BJP विधायकों ने MLA फंड से 10-10 लाख का बजट जारी किया है। ताकि जिला प्रमुख के काम में बाधा नहीं आए।