पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बदहाली:सीएडी प्रशासन कर रहा है नहरों में पानी छोड़ने की तैयारी, लेकिन अभी तक नहीं हुई सफाई, टेल तक कैसे पहुंचेगा पानी

काेटा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बाईं मुख्य नहर की बड़गांव माइनर की सफाई नहीं होने से उगी जलीय वनस्पति।
  • चंबल के सबसे बड़े नहरी तंत्र के ये हैं हालात, 20 लाख का बजट होने के बावजूद नहीं हुई सफाई

फसलाें की सिंचाई के लिए सीएडी अगले माह से पानी छाेड़ने की तैयारी कर रहा है। लेकिन, टेल तक के किसानाें काे पानी कैसे पहुंचेगा, यह बड़ा सवाल है। क्याेंकि 20 लाख रुपए का बजट हाेने के बावजूद अभी तक विभाग ने नहराें और माइनराें की सफाई नहीं की। विभाग ने सिर्फ कुछ ही जगह नहरों की सफाई कराई, कई जगह नहरों की सफाई हुई ही नहीं।

चंबल मुख्य दायीं व बायीं नहर के माइनराें में कटीली झाड़ियों, मिट्टी व दलदल एकत्रित हो गया है, जो पानी की रफ्तार को धीमी कर देता है। जबकि टेल क्षेत्र में लगभग 50 हजार हेक्टेयर में फसलों की सिंचाई की जाती है। ऐसे में इन किसानों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। नतीजा इससे किसानों को पानी मिलने में न सिर्फ देरी होगी बल्कि, उनकी फसलें खराब होने का भी खतरा बना रहेगा।

नहीं हुआ माइनरों का मरम्मत कार्य
बड़गांव के किसान हेमराज जोशी ने बताया कि क्षेत्र माइनरे कई स्थानों से टूटी है, जिसकी मरम्मत नहीं कराई गई। मरम्मत न होने से नहरों का पानी व्यर्थ बहेगा। किसानों के खेतों को खराब करेगा। इसके अलावा कई स्थान पर नहर की सीसी भी उखड़ चुकी है, जो सालों से ऐसी ही बनी हुई है। विभाग की ओर से इसकी भी मरम्मत नहीं कराई गई है। किसानों को इस बार पलेवा और एक बार सिंचाई के लिए ही पानी मिलना मुश्किल हाेगा।

पहले भी छोड़ा था पानी, खेतों तक नहीं पहुंचा :किसान नेता रामलाल माली ने बताया कि इस वर्ष बारिश कम होने से किसानों की मांग पर सीएडी विभाग ने 20 दिन पहले दाईं, बाईं मुख्य नहरों में पानी छाेड़ा था, लेकिन माइनरों में कचरा होने से पानी नहीं पहुंचा। किसानों ने मानइराें की सफाई के लिए सीएडी काे अवगत करवाया था, लेकिन बजट नहीं होने की बात कहकर पल्ला झाड़ लिया। अब पुन: पानी छोड़ने के बाद किसानाें काे परेशानियों का समाना करना पड़ेगा।
हर साल बजट को कर देते हैं बर्बाद
भाजपा किसान मोर्चा के जिला महामंत्री हुसैन देशवाली ने बताया कि दाईं, बाई मुख्य नहर, माइनर दुरूस्त करने व सफाई के लिए पानी छोड़ने से पहले हर साल लाखों का बजट आता है। इसके बावजूद दो-तीन साल में सफाई होती है। इससे नहरें जर्जर हाल हो रही है। कई बार स्थिति यह बन जाती है कि, नहरें फूट तक जाती है। जबकि हर साल आने वाले बजट को अफसर पतीला लगा देते है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें