पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सांसत में नवजात:जेकेलोन में एनआईसीयू से सेंट्रलाइज एसी के पाइप चोरी, गर्मी में 3 दिन तपते रहे मासूम

कोटा22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जेकेलोन हॉस्पिटल में जालियां काटकर काॅपर के पाइप ले गए बदमाश, तीसरे दिन शाम तक ठीक हाे पाया कूलिंग सिस्टम

जेकेलोन हॉस्पिटल के एनआईसीयू (नियोनेटल इंसेंटिव केयर यूनिट) के सेंट्रलाइज एसी के कॉपर पाइप चाेर तीन दिन पहले शुक्रवार काे चुराकर ले गए। इसके चलते पूरा कूलिंग सिस्टम बंद हाे गया था। नवजात और उनके परिजन गर्मी से तपते रहे। परिजन गत्ते व पंखी से हवा कर जैसे-तैसे राहत पाने की जुगत कर रहे, लेकिन नाैतपा की भीषण गर्मी में ये प्रयास बेकार साबित हुए। अस्पताल प्रशासन काे व्यवस्था सुधारने में तीन दिन का समय लग गया। तीसरे दिन रविवार की शाम तक कूलिंग सिस्टम वापस चालू हाे सका। चोरी की रिपोर्ट थाने में दर्ज करवाई है। सिस्टम शुरू होने के बाद बच्चों को राहत मिली।

पिछले साल बच्चों की मौत का मामला सामने आने के बाद राज्य सरकार ने जेकेलोन अस्पताल में व्यवस्थाओं में सुधार के लिए कई कदम उठाए थे। उन्हीं में से एक न्यू बोर्न बेबी के बेहतर इलाज के लिए 3.24 करोड़ की लागत से प्रदेश का पहला मॉड्यूलर एनआईसीयू बनाया था।

दाे माह पूर्व 27 मार्च को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वर्चुअल समारोह के जरिए इसका लोकार्पण किया था। इसमें वार्मर, सीपेप मशीन, फोटोथैरेपी मशीन, इंफूजन पम्प, मॉनिटर व अन्य मशीनें उपलब्ध कराई गई। शुद्ध ऑक्सीजन के लिए हेपा फिल्टर सहित सेंट्रल एसी सिस्टम लगा है। सेंट्रल एसी सिस्टम के पाइप को जालियों से कवर कर ताला लगाया हुआ था। क्याेंकि पहले भी पाइप चाेरी हाे चुके हैं। उसके बावजूद चाेराें ने लॉकडाउन का फायदा उठाकर में पीछे से ताला तोड़कर कॉपर के पाइप चुरा लिए। जिस कारण कूलिंग बंद हो गई।
एनआईसीयू में 25 बच्चे भर्ती हैं, परिजन दिन-रात खड़े रहकर करते रहे हवा
यहां भर्ती नवजात बच्चों के परिजन गर्मी से परेशान रहे। वो घंटाें खड़े रहकर नवजात को पंखी व गत्ते से हवा करने को मजबूर रहे। परिजनाें ने एसी बंद होने से मुश्किलों का सामना किया। एक वार्मर पर दो से तीन बच्चों को रखा हुआ है। सरकार कोरोना महामारी में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना को कह रही है। यहां एक वार्मर पर दो-तीन बच्चों को रख रखा है। कौन बच्चा संक्रमित है कौन नहीं, ये भी पता नहीं चलता। एसी सिस्टम बंद पड़ा रहा। गर्मी के कारण स्टाफ भी रुक नहीं पा रहे थे।
^32 बेड के एनआईसीयू में सेंट्रल कूलिंग सिस्टम लगा हुआ है। दो दिन पहले अज्ञात चोर कॉपर की पाइप काटकर ले गए थे। इसकी थाने में शिकायत दी। गैस निकलने से एसी सिस्टम बन्द हुआ था। इसको सही करवाया गया। दाे दिनाें तक कम्पनी के लोग काम करते। एक यूनिट रविवार की दाेपहर में चालू हाे गई थी और दूसरी यूनिट शाम काे चालू हाे गई। कोविड के कारण एनआईसीयू में अभी 25 बच्चे ही भर्ती हैं।
- डाॅ. अमृता मयंगर, एचओडी पीडियाट्रिक

खबरें और भी हैं...