भास्कर खास:दक्षिण नगर निगम 13.95 करोड़ रु. से जल और 9.35 कराेड़ से वायु प्रदूषण कम करेगी

काेटा20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड से दक्षिण निगम को मिले 27 करोड़

पाॅल्यूशन कंट्राेल बाेर्ड से मिले 27 कराेड़ रुपए में से दक्षिण नगर निगम द्वारा 23 कराेड़ रुपए की लागत से सफाई का ढांचा सुधारने की तैयारी कर दी है। इसमें से 13.95 कराेड़ रुपए शहर के नालाें काे चैनलाइज कर चंबल नदी में दूषित पानी राेकने और कचरा परिवहन, वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट पर खर्च किए जाएंगे। वहीं कचरा और सड़काें पर उड़ने वाली धूल काे खत्म करने के लिए 9.35 कराेड़ खर्च हाेंगे।

इसमें राेड स्वीपर मशीन की खरीद से लेकर पाैधराेपण और ट्री गार्ड खरीदने के कार्य किए जाएंगे। हाल ही में महापाैर राजीव अग्रवाल व आयुक्त कीर्ति राठाैड़ की अध्यक्षता में हुई नगर निगम कमेटी की बैठक में इस पर मुहर लगा दी है। करीब 6 माह के भीतर इसके रिजल्ट आने शुरू हाेंगे। जाे वाहन खरीदे जा रहे हैं, उनके लिए 3 से 5 माह का समय तय किया गया है। बाकी कार्य भी 2 माह में शुरू हाे जाएंगे और करीब 1 वर्ष में पूरा करने का टारगेट रखा गया है।

वाटर पाॅल्यूशन राेकने और साॅलिड वेस्ट के लिए ये कार्य हाेंगे

  • नाले हाेंगे चैनेलाइज्ड : इसमें 10 कराेड़ रुपए की लागत से दक्षिण क्षेत्र में बह रहे नालाें काे चैनलाइज किया जाएगा। इन बरसाती नालाें में दाेनाें तरफ छाेटे नाले बनाए जाएंगे ताकि सालभर उसमें से पानी निकले और बाकी बीच के स्थान काे साफ रखा जाएगा। जाे पानी चंबल नदी में गिरेगा उसे साथ किया जाएगा।
  • वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट प्लांट : 1.50 कराेड़ की लगात से वेस्ट वाटर जाे अभी सीधा साजीदेहड़ा से हाेता हुआ चंबल नदी में जा रहा है, उसे साफ किया जाएगा। ट्रीटमेंट प्लांट लगाकर पानी काे साफ किया जाएगा और दुबारा काम में लिया जाएगा।
  • कचरा परिवहन के वाहन : 75 लाख रुपए की लागत से कचरा उठाने के लिए वाहन खरीदे जाएंगे।
  • माेबाइल टाॅयलेट : 75 लाख रुपए की लागत से सार्वजनिक कार्यक्रम व दशहरे मेले के दाैरान बाहर से आने वाले लाेगाें के लिए माेबाइल टायलेट खरीदे जाएंगे, ताकि जाे लाेग शाैचादि के लिए नदी व नालाें की तरफ जाते हैं, उन्हें राेका जा सके।

एयर पाॅल्यूशन राेकने के लिए यह कार्य हाेंगे

  • राेड बाइंडिंग : 3 कराेड़ रुपए की लागत से सभी मुख्य सड़काें के किनारे पर इंटरलाॅकिंग करके राेड बाइडिंग की जाएगी। ताकि वाहन निकलने के बाद धूल न उड़े।
  • राेड स्वीपिंग मशीन : उत्तर नगर निगम की तरह दक्षिण भी 1 कराेड़ रुपए की लागत से राेड स्वीपिंग मशीन खरीदेगा ताकि सड़काें की सफाई करते समय धूल न उड़े।
  • प्रदूषण जाच मशीन : सफा्ई संसाधनाें व निगम के वाहनाें से हाे रहे प्रदूषण की जांच के लिए 50 लाख रुपए की लागत से प्रदूषण जांच मशीन खरीदी जाएगी।
  • चंबल गार्डन में सुधार : चंबल गार्डन में 20 लाख से साैंन्दर्यीकरण के कार्य तथा वाटर स्प्रींकलर लगेंगे।
खबरें और भी हैं...